आखिर प्रेमी युवक के हत्यारो की गिरफ्तारी क्यों नहीं कर रही पुलिस,मृतक के मां की घोषणा तीन दिन में गिरफ्तारी न होने पर करेगी आत्मदाह


केराकत। प्रेमिका से मिलने गये प्रेमी को जिंदा जलाने की घटना में पांच दिन बाद भी आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं होना पुलिस को सवालो के कटघरे में अब खड़ा कर रही है।जबकि इस घटना में मृतक के परिवार द्वारा 3 जनवरी को चोलापुर वाराणसी थाने में प्रेमिका सहित घर वालों पर नामजद मुकदमा दर्ज करा दिया गया था। मृतक युवक के अधजले शरीर का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था। घटना के इतने दिन बाद भी पुलिस द्वारा आरोपियों का न पकड़ा जाना पुलिस पर सवालिया निशान खड़ा कर रहा है।
बता दे कि चंदवक थाना अंतर्गत पतरही कोपा गांव का निवासी शुभम सेठ 26 वर्ष गाजीपुर के खानपुर थाना क्षेत्र के मौधा में आभूषण की दुकान चलाने के साथ ही सारनाथ के आशापुर के अकथा में भी आभूषण की दुकान का संचालन करता था। इसी दौरान वाराणसी के चोलापुर थाना क्षेत्र के टिसौरा (बेनीकला) गांव की युवती रीतिका से उसका प्रेम सम्बन्ध हो गया। पिछले 7 वर्षों से दोनों एक दूसरे को जानते थे जिसकी भनक दोनों दोनों परिवारों को थी। मृतक के परिजनों के अनुसार शुभम नववर्ष नववर्ष के दिन शादी की बातचीत करने वाराणसी के टिसौरा (बेनीकला) गांव में गया हुआ था। जिसके बाद जलने की खबर मिली। आनन-फानन में वाराणसी अस्पताल जाकर देखा गया तो शुभम अधजले अवस्था में चिल्ला रहा था जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। हालाकि पुलिस मृतक के मां के तहरीर के आधार पर प्रेमिका सहित अन्य लोगों पर मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की तलाश में जुटने का दावा किया था। मृतक युवक का वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वॉयरल हो रहा है। जिसमें साफ तौर पर सुना जा सकता है कि किसने उसे जलाया है। बाकायदा प्रेमिका व उसके पिता के साथ अन्य लोगों का नाम चीख-चीख कर बता रहा है। बावजूद इसके बाद भी आरोपी पुलिस के पकड़ से दूर हैं। परिजनों का आरोप है कि पुलिस चाहती तो उसी समय आरोपियों को पकड़ सकती थी मगर आरोपियों को भागने का मौका पुलिस ने ही दिया है।
मृतक शुभम सेठ की मां किरन देवी का आरोप है कि चोलापुर पुलिस ने आरोपियों पर अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की है। बेटे ने दम तोड़ा तब आरोपियों के खिलाफ मुकदमा हुआ। उन्होंने कहा कि घटना हुए पांच दिन बीत गये हैं मगर अभी तक किसी भी आरोपी को पुलिस पकड़ने में नाकाम हूँ। योगी राज में अगर मुझे न्याय नहीं मिला और तीन दिन के अंदर पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार नहीं करती है तो चोलापुर थाने में पहुंचकर में खुद आत्महत्या कर लूंगी।
मृतक के भाई शनिदेव ने बताया कि भाई के जलने की सूचना मिली। हम लोग मौके पर पहुंचे तो चोलापुर स्वास्थ्य केंद्र से कपिल चौरा रिफर कर दिया गया था। कपिलचौरा पहुंचा देखा गया तो भाई जले अवस्था में मिला और अधिकारियों के सामने अपना बयान दे रहा था। भाई का उपचार न होता देख हम लोग बीएचयू ट्रामा सेंटर ले गए तो वहां बताया गया कि वेड खाली नहीं है उसके बाद निजी अस्पताल ले जाया गया वहां भी नहीं हुआ तो हम लोग शिवपुर के नोवा अस्पताल ले गए वहां दो दिनों तक इलाज चला और तीसरे दिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। उन्होंने बताया कि पुलिस के सामने भाई के वयान देने पर भी पुलिस आरोपी को अब तक गिरफ्तार नहीं कर
सकी है।
 आरती सेठ मृतक की बहन आरती सेठ और रानी सेल ने बताया कि रीतिका के साथ मेरे भाई का संबंध कई वर्षों से चल रहा था। जब मेरी मां दार पर नही रहती थी तब रितिका घर पर खाना भी बनाती थी। मेरी मां के आने से पहले ही घर से चली जाती थी। जब मेरे भाई का सारा पैसा खत्म कर दिया तो किसी और के साथ प्यार करने लगे। पिछले माह से मेरे भाई से बात नहीं करती थी। मेरे भाई को नव वर्ष पर बुलाकर भाई को कुर्सी से बांधकर उसके ऊपर पेट्रोल डालकर जलाकर फरार हो गई। इस लोगों को न्याय चाहिए। रांतिका समेत अन्य लोगों की गिरफ्तारी होनी चाहिए साथ ही उनके घर पर घुलडोजर चलना चाहिए।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद