समीक्षा बैठक में फुलफार्म में नजर आये डीएम रविन्द्र कुमार,सफाई,स्वास्थ्य, शिक्षा पर रहा फोकस


चेतावनी:अच्छा कार्य करने वाले होगे पुरस्कृत तो खराब काम करने वालो को मिलेगा दण्ड 

जौनपुर। पूर्वांचल विश्विद्यालय स्थित संगोष्ठी भवन में जिलाधिकारी रविन्द्र कुमार मांदड़ की अध्यक्षता में आयोजित कार्यशाला एवं समीक्षा बैठक को सम्बोधित करते हुए जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि स्वच्छता बहुत ही जरूरी है 16 फरवरी से जनपद में वृहद रूप से साफ-सफाई का कार्य कराया जाएगा, जिसके लिए तैयारी कर ले। नालियों में एंटी लारवा का छिड़काव भी कराया जाएगा। 
जिलाधिकारी ने विद्यालयों में कायाकल्प का कार्य 20 दिन में खत्म कर दिया जाए। जिन विद्यालयों में चहारदीवारी अभी नहीं बनी है शीघ्र ही बना लिया जाए, यदि किसी भी विद्यालय में सीमांकन का विवाद है तो संबंधित उप जिलाधिकारी, बीएसए और एबीएसए आपस में समन्वय करते हुए विवाद को खत्म कराये। विद्यालयों में शौचालय, पेयजल, साफ-सफाई का विशेष ध्यान दिया जाए। ग्राम पंचायत में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखा जाए। विद्यालयो में स्मार्ट क्लासेस संचालित होती रहे। जिलाधिकारी ने स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि यदि विद्यालयों में शिक्षक अनुपस्थित है, तो इसकी सूचना शिकायत प्रकोष्ठ, जिलाधिकारी के सीयूजी नंबर, बेसिक शिक्षा अधिकारी को सूचित करें, उन पर कठोर कार्यवाही की जाएगी। 
हेल्थ एंड वैलनेस सेंटर छोटी-छोटी बीमारियों का इलाज किया जाए। सभी सीएचओ अनिवार्य रूप से निर्धारित समयावधि में उपस्थित रहे। सभी प्रकार की आवश्यक दवाई उपलब्ध रहे। सामुदायिक शौचालय निर्धारित समय अवधि में अनिवार्य रूप से खुले, अगर निरीक्षण के दौरान बंद होने की शिकायत पाई गई तो सम्बंधित सेक्रेटरी और ग्राम प्रधान पर कार्यवाही की जाएगी। सामुदायिक शौचालय साफ सुथरा रहे। जिलाधिकारी ने निर्देशित किया कि पंचायत भवन पर शासकीय सुविधा उपलब्ध कराया गया है। उन्होंने बताया कि पंचायत भवनों पर पंचायत सहायकों की नियुक्ति की गई है जिनके द्वारा पंचायत भवन पर ही प्रार्थना पत्र का रजिस्ट्रेशन कराया जाता है। जिलाधिकारी ने कहा कि कई पंचायत सहायक बहुत अच्छा कार्य कर रहे हैं और अन्य लोग भी उनसे प्रेरणा ले। सभी आंगनबाड़ी केंद्र समय से खोलने और बच्चों को शासन के निर्देश क्रम में एक्टिविटी कराये जाये। मुख्य विकास अधिकारी को निर्देशित किया कि आंगनबाड़ी केंद्रों के कायाकल्प करने की योजना बनाई जाए। आगे भी इस तरह की बैठक कर कार्यों की समीक्षा भी की जाएगी अच्छा प्रदर्शन करने वालो को प्रोत्साहित एवं खराब प्रदर्शन करने वालो को दंडित किया जाएगा। 
सभी अधिकारी पूर्ण मनोयोग और सकारात्मक सोच के साथ कार्य करते हुए जनपद के विकास में अपना योगदान दें।जिलाधिकारी के द्वारा निर्देशित किया गया कि मतदान बूथों पर सभी प्रकार की आवश्यक तैयारियां पूर्ण कर ली जाए। बिजली व्यवस्था सुनिश्चित कर ली जाए, रैम्प ठीक करा लिया जाए।उन्होंने यह भी निर्देशित किया गया कि जल जीवन मिशन के तहत जो भी सड़के टूटी हैं उन्हें अभियान चलाकर 20 दिन के भीतर समतलीकरण करने का कार्य किया जाए।
कार्यशाला एवं समीक्षा बैठक में विकास योजनाओं से सम्बन्धित जिला स्तरीय अधिकारियो ने अपने-अपने विभाग की योजनाओं के सम्बन्ध में पी०पी०टी० के माध्यम से संक्षिप्त में उपस्थित प्रधानों एवं कर्मचारियों को जानकारी प्रदान किया। जिला उद्यान अधिकारी सीमा सिंह राणा के द्वारा पर ड्रॉप मोर क्रॉप के सम्बंध में जानकारी दी गई और अधिक से अधिक किसानों को लाभ लेने के लिए प्रेरित किया गया। मिनी और ड्रिप स्प्रिंकलर, पोर्टबेल स्प्रिंकलर के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि इस सुविधा का लाभ उठाकर किसान भाई पानी की बचत करें। उन्होंने जानकारी दी कि किसान पीएमएफएमई योजना के तहत मशरूम, डेयरी  शहद की यूनिट लगा कर रोजगार प्राप्त कर सकते है। एकीकृत बागवानी विकास योजना के तहत गेंदे, अमरूद, केले की बाग लगाकर लाभ के सकते हैं। उन्होंने बताया कि पॉलीहाउस लगाने पर 50 प्रतिशत की सब्सिडी दी जा रही है जिसे लगाकर किसान बिना मौसम के सब्जी की खेती सकते है और अपनी आमदनी दोगुनी कर सकते है। उन्होंने परम्परागत खेती से हटकर वैज्ञानिक तरीके से खेती करने पर भी जोर दिया।  
डिप्टी आरएमओ नृपुंजय पाठक ने बताया कि किसान ज्वार और बाजरा की खेती अधिक करे। सभी किसानों से कहा कि थोड़ा बहुत मोटे अनाज की खेती अवश्य करें। उन्होंने किसानो को अपने गेहूं सरकारी केन्द्र पर ही बेचने के लिए कहा और सभी ग्राम प्रधानों से भी किसानों को प्रोत्साहित करने के लिए कहा। उन्होंने बताया कि किसान मित्र एप के माध्यम से स्वयं पंजीकरण कर सकते है।  
जिला पूर्ति अधिकारी संतोष विक्रम शाही के द्वारा अपने अपने विभागों से संचालित योजनाओं की जानकारी दी गई। परियोजना निदेशक जयकेश त्रिपाठी के द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना के सम्बंध में पात्रता व शर्तो के सम्बंध में विस्तार से जानकारी प्रदान की गई। समीक्षा बैठक में समस्त जिला स्तरीय अधिकारी, समस्त खण्ड विकास अधिकारी, समस्त सहायक विकास अधिकारी, समस्त प्रधान, समस्त तकनीकी सहायक मनरेगा, समस्त डी०एम०एम०/ बी०एम०एम० (एन०आर०एल०एम०) सहित समस्त ग्राम पंचायत सचिव उपस्थित रहें।       

Comments

Popular posts from this blog

डीएम जौनपुर ने चार उप जिलाधिकारियों का बदला कार्यक्षेत्र जानें किसे कहां मिली नयी तैनाती देखे सूची

पुलिस भर्ती परीक्षा पेपर लीक मामले में जौनपुर की अहम भूमिका एसटीएफ को मिली,जानें कहां से जुड़ा है कनेक्शन

जौनपुर में आधा दर्जन से अधिक थानाध्यक्षो का हुआ तबादला,एसपी ने बदला कार्य क्षेत्र