आईये जानते है क्यों खोदवा दिया गया मुख्तार अंसारी के करीबी का विद्यालय



मुख्तार अंसारी के करीबी के महाविद्यालय पर जिला प्रशासन ने बुल्डोजर चलवा दिया है। जेसीबी लगवाकर यहां पोखरा भी खोदा जा रहा है। बताया जा रहा है कि यहां पहले से पोखरा था। कागजों में हेराफेरी कर महाविद्यालय का निर्माण करा दिया गया था।

मऊ के सरायलखंसी थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम रणवीरपुर में रामनाथ यादव के पुरुषोत्तम महाविद्यालय परिसर में बुल्डोजर चला है। राजस्व विभाग के कर्मचारियों ने बताया कि रणवीरपुर के आराजी सं 1558ग, रकबा 202 कङी पहले पोखरे के रूप में दर्ज थी। हेराफेरी करके रामनाथ यादव ने पोखरी की भूमि को बंजर भूमि के रूप में अभिलेखों में दर्ज करा लिया था और मुख्तार अन्सारी की मदद से महाविद्यालय के भवन का निर्माण कर लिया। 

जानकारी होने पर जिलाधिकारी अमित सिंह बंसल के आदेश पर बंजर भूमि को पुन: पोखरी में परिवर्तन करने का निर्णय लिया गया। इसी क्रम में बुधवार को उप जिलाधिकारी, सदर जयप्रकाश यादव के नेतृत्व में जेसीबी मशीन लगाकर मिट्टी खोदकर पोखरी को बहाल करने का कार्य होता रहा। मौके पर बङी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात थी। 

गौरतलब है रामनाथ यादव ने वर्ष 2014 से 2019 के बीच में बाहुबली की विधायक निधि ने 19 लाख 50 हजार रूपये लिए। आरोप है कि वर्ष 2017 के विधान सभा चुनाव में मुख्तार अन्सारी के प्रचार और प्रसार में भी रुपये खर्च किए गए। रामनाथ यादव के पास रणवीरपुर में महाविद्यालय की मान्यता के लिए भूमि पर्याप्त में नहीं थी, लेकिन बाहुबली के दबाव से मान्यता के नियमों के विरूद्ध मान्यता ली गई। मान्यता खत्म करने के लिए वीरबहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय से संपर्क किया जा रहा है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन