कलुषित उर की भावना से, दबा हुआ है देश, राष्ट्र विरोधी दे रहे है,भारत को क्लेष


करे समुन्नत राष्ट्र नित, राष्ट्र प्रेम आधार।।
घर में सुख समृद्धि हो,छोटा हो परिवार।।

कलुषित उर की भावना,अन्तर्मन में द्वेष।।
राष्ट्र विरोधी दे रहे हैं, भारत को क्लेष।।

जनसंख्या के भार से,दबा हुआ है देश।।
लघु कुटुम्ब की भावना, शिक्षा स्वास्थ्य विशेष।।

दाना पानी देश का ,मान और सम्मान।।
 गद्दारी है देश से ,बैरी का गुनगान।।

बैरी परम गिरीश के,लगा रहे हैं आग।।
फन काढ़े फुफकारते,अगणित-अगणित नाग।।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर : सुभासपा से जफराबाद विधान सभा सीट पर चुनाव लड़ सकते है डा जेपी सिंह

सपा के घोषित 56 प्रत्याशियों की सूची में जौनपुर के इन चार सीटो के प्रत्याशी घोषित

यूपी के दस सबसे अमीर विधायक : किसी के पास 35 से ज्यादा ट्रक तो कोई चलाता है 15 लाख की बाइक,जानें माननियों की कुंडली