विश्व हृदय दिवस पर जागरूकता रैली निकाल कर डाॅ एच डी सिंह ने हृदयाघात से बचाव के बताये यह उपाय


जौनपुर। विश्व हृदय दिवस पर आज बुधवार को कृष्णा हार्ट केयर अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सक 
 एवं हृदय रोग विशेषज्ञ डाॅ एच डी सिंह के नेतृत्व में खिलाड़ियों, चिकित्सको एवं पैरामेडिकल के छात्रो ने जनपद मुख्यालय पर जागरूकता रैली निकाल कर हृदय रोग से बचाव एवं बीमारी से निजात पाने के लिए जनपद वासियों को जागरूक किया गया।
इस अवसर पर डॉ एच डी सिंह ने कहा कि आज पूरी दुनियां में हृदय रोग की बीमारी का खौफ अधिक बढ़ गया है। यह रोग जवान वृद्ध सभी का शत्रु बना हुआ है। समाज के अन्दर हर पांचवा व्यक्ति हृदय रोग से पीड़ित है। प्रत्येक सौ मौतो में कम से कम 31 मौते हृदयाघात से हो रही है।असामयिक मौतो में 80 प्रतिशत मौत इसी बीमारी के चलते हो रही है। डाक्टर के अनुसार विश्व  स्तर पर  प्रति वर्ष 18 लाख मौते हृदयाघात से ही हो रही है । वर्तमान समय में पूरी दुनियां के आंकड़े  पर नजर डाली जाये तो 06 करोड़ की संख्या में दिल के मरीज हो गये है। यूरोप व अमेरिका जैसे पाश्चात्य देशों की माने जाने वाली यह बीमारी कब हिंदुस्तान में महामारी बन गई पता ही नहीं चला। 
डाॅ सिंह ने बताया कि विकृति जीवन शैली अनियंत्रित और असंतुलित आहार उच्च  रक्तचाप, मधुमेह जैसी बीमारी की अनदेखी और धूम्रपान व मदिरापान की आदत निष्क्रियता पूर्ण जीवन शैली गला काट व्यावसायिक प्रतिस्पर्धा एवं वातावरण में प्रदूषण के चलते यह बीमारी मौत की सौदागर बन चुकी है। परंतु यह सारे कारण नियंत्रण करने योग्य है और तमाम कारकों को जीवन से निकालकर आप हृदय रोगों से दूर रह सकते हैं। मधुमेह एवं उच्च रक्तचाप का जागरूकता के साथ नियंत्रण करके मोटापे पर नियंत्रण करते हुए रक्त कोलेस्ट्रोल ट्राइग्लिसराइड एवं एलडीएल पर नियंत्रण, तंबाकू सिगरेट शराब या किसी तरह के नशे से दूरी बनाकर तनाव कम करते इस महामारी  से बचा जा सकता है। 
डाॅ सिंह के अनुसार नियमित हफ्ते में 5 दिन 30 मिनट की कसरत जॉगिंग साईकिलिंग, स्विमिंग योग, पैदल चलाकर शरीर को सक्रिय बनाए रखें। तमाम बीमारियों का एक इलाज व्यायाम है इसके रहस्य को समझाते हुए बताया कि आप तमाम ऊपरी उपायों में 60% से 70 % बीमारी से असमय होने वाली मौतों को रोक सकते हैं या बचा सकते हैं । स्वस्थ हृदय रोगों  का नियंत्रण आपके हाथ में है ।आप सचेत रहें और संजीदा रहें ।नहीं तो जीवन की डोर कब ढीली हो जाएगी पता नहीं चलेगा। 
 30 साल उम्र के बाद हर व्यक्ति हृदय हृदय रोगों की गिरफ्त में हैं ,आप सुंदर है धावक हैं  .हैंडसम कोई भी है आप अपने को हृदय रोग से मुक्त  तब समझें जब आप की भौतिक जांच एवं चिकित्सकीय जाँच  यह सत्यापित करे कि आप ह्रदय रोगी नहीं है I जागरूकता एवं उचित चिकित्सकीय परामर्श ही आपको असामयिक मौत एवं  आपके परिवार को  छिन्न  भिन्न होने से बचा सकता है । वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन एवं WHO. एवं संसार की बहुत सारी संस्थाएं इस दिशा में काम कर रही हैं I हमें भी जागरूक एवं हृदय रोगों से दूर रहने  प्रति  सजग रह कर प्लोगों को सजग करना चाहिए।  

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक