ठंड और गलन से सिकुड़े लोग रात्रि का पारा जानें कितना लुढ़का है



ठंड व गलन बढ़न के साथ ही रविवार को बीते चार वर्षों का रिकार्ड टूट गया। बीते 24 घंटे के भीतर न्यूनतम तापमान में 5.4 डिग्री सेल्सियस और अधिकतम तापमान में 1.3 डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज हुई। रविवार को न्यूनतम तापमान 6.4 व 19.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इससे पहले 2019 में न्यूनतम तापमान 9.6 डिग्री तक लुढ़का था। 
पहाड़ों पर बर्फबारी और बारिश के कारण ठंड में बढ़ोत्तरी हो गई है। कालीन नगरी समेत समूचा पूर्वांचल शीतलहर की चपेट में है। चार दिन से गिरते तापमान के कारण जिले में कड़ाके की ठंड पड़ने लगी है। इससे सामान्य जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है। 11 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हवा के बीच ठंड का असर इतना ज्यादा रहा कि धूप खिली रहने के बावजूद गलन से लोग ठिठुरते रहे। अलाव दिन भर लोगों का सहारा बना रहा। ठंड के कारण गुलजार रहने वाले ज्ञानपुर नगर में शाम ढलते ही सन्नाटा पसर गया।
शहरी क्षेत्र में अलाव की व्यवस्था न होने से लोगों को परेशान देखा गया। ग्रामीण क्षेत्रों में भी अलाव के लिए धनराशि जारी की गई है, इसके बावजूद अलाव नहीं जल रहा है। कृषि विज्ञान केंद्र मौसम विभाग के मुताबिक सर्द हवाओं के कारण ठंड में इजाफा हुआ है। कृषि मौसम विशेषज्ञ ने बताया कि सोमवार को पूर्ण रूप से धूप निकलने के आसार हैं, लेकिन तेज सर्द पछुआ हवाओं के कारण कोल्ड डे जैसी स्थिति बनी रहेगी। हलांकि यह मौसम रबी की फसल के लिए बेहतर है।  
इस बार सर्दी ने पिछले चार वर्षों का रिकॉर्ड तोड़ दिया है। वर्ष 2018,19 और 20 में 19 दिसंबर का न्यूनतम तापमान इस बार के मुकाबले अधिक रहा। मौसम विभाग के आंकड़ों के मुताबिक 2018 में 19 दिसंबर को दिन का तापमान 18.2 डिग्री और रात का तापमान 12.1 डिग्री था, जबकि 2019 में दिन का तापमान 17 डिग्री और रात का तापमान 9.6 डिग्री सेल्सियस रहा।  वर्ष 2020 में अधिकतम 22 और न्यूनतम 11 डिग्री रहा। 2021 में 19 दिसंबर को अधिकतम 19.1 और न्यूनतम 6.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर का बेटा बना यूनिवर्सिटी आफ टोक्यो जापान में प्रोफ़ेसर, लगा बधाईयों का तांता

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

यूपी में फिर 11 आईएएस अधिकारियों का तबादला, देखे सूची