एमएलसी के लिए दूसरे दिन भी नामांकन नहीं दो पर्चे खरीदे गये,सोमवार को पर्चा दाखिला की संभावना


जौनपुर। एमएलसी चुनाव को लेकर जनपद में 04 फरवरी 22 शुक्रवार को अधिसूचना लागू कर दी गई। साथ ही पहले दिन किसी भी प्रत्याशी ने नामांकन के लिए फार्म ही नहीं लिया। हालांकि प्रशासन ने अपनी तैयारियों को पूरा कर लिया था। सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था की गई थी। वहीं, जिला निर्वाचन अधिकारी मनीष कुमार वर्मा और एसपी अजय साहनी ने निरीक्षण किया। लेकिन दूसरे दिन वर्तमान एमएलसी बृजेश सिंह उर्फ प्रिंसू और तहसील मड़ियाहूँ क्षेत्र स्थित ग्राम अढ़नपुर की निवासिनी उषा सिंह ने एक एक से पर्चा खरीदा है। वहीं दूसरे दिन भी किसी ने नामांकन नहीं किया है। 
एमएलसी चुनाव के लिए नामांकन का दौर शुरू हो गया, जो सार्वजनिक अवकाश के दिनों को छोड़कर 11 फरवरी तक चलेगा। लेकिन किसी भी राजनीतिक दल ने अपना प्रत्याशी घोषित नहीं किया है। वर्तमान एमएलसी बृजेश सिंह प्रिंसू का चुनाव लड़ना तय है उनके लोगो ने आज पर्चा खरीद भी लिया है। उषा सिंह खुद पर्चा खरीदने आयी थी उन्होने जानकारी दी है कि उनको शोसित संदेश पार्टी का समर्थन प्राप्त है। 
नामांकन के दौरान जुलूस और वाहन को रोकने के लिए लाइन बाजार चौराहा, आंबेडकर तिराहा, रोडवेज के पास मियांपुर तिराहा पर बैरियर लगाया गया है। साथ ही पुलिस बल तैनात किया गया है। नामांकन करने वालों को नहीं आने से पुलिस बल निर्धारित समय 03 बजे तक समय ब्यतीत कर वापस चले जा रहे है। 
गहन जांच के तहत एडीएम कार्यालय के सामने मुख्य गेट के पास और जिलाधिकारी कोर्ट के बाहर मेटल डिटेक्टर लगाया गया है। साथ ही कोविड गाइडलाइन के तहत सैनिटाइजर और थर्मल स्कैनर भी रखा गया है। अंदर प्रवेश करने वालों से कोरोना गाइड लाइन का पालन करने का शख्त निर्देश है। कलेक्ट्रेट परिसर में प्रवेश करने वाले तीन गेट बंद रहे। इससे आवागमन में लोगों को काफी परेशानी उठानी पड़ी। वहीं, जिलानिर्वाचन अधिकारी और एसपी अजय कुमार साहनी ने कलेक्ट्रेट परिसर का निरीक्षण भी किया। इस अवसर पर उप जिला निर्वाचन अधिकारी रामप्रकाश, अपर जिलाधिकारी भू-राजस्व रजनीश राय, अपर पुलिस अधीक्षक (शहर) डा. संजय कुमार, सीओ सिटी जितेंद्र दूबे आदि उपस्थित थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन