नैक पीयर टीम ने परिसर के कई संकायों का किया निरीक्षण

विभागों में प्रेजेंटेशन और एसएसआर में दाखिल दस्तावेजों को देखा

टीम ने संकायाध्यक्ष, विभागाध्यक्ष और शिक्षकों के साथ किया संवाद

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के नैक मूल्यांकन के लिए प्रो. दिलीप कुमार सैकिया की अध्यक्षता में छह सदस्यीय टीम ने रविवार को गहन निरीक्षण का कार्य शुरू कर दिया। टीम तीन, चार और पांच दिसंबर 2023 तक विश्वविद्यालय परिसर में अध्ययन, लैब, स्टूडियो समेत अन्य गतिविधियों, संसाधनों का निरीक्षण करेगी।
वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग हाल में सुबह टीम के समक्ष सबसे पहले विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. वंदना सिंह ने विश्वविद्यालय की प्रगति आख्या और भावी योजनाओं का विस्तार से प्रस्तुतीकरण किया। कुलपति प्रो. सिंह ने कहा कि सम्बद्ध महाविद्यालयों की समय से परीक्षा और उनका रिजल्ट घोषित करने में हमने बड़ी सफलता पाई है। शोध की गुणवत्ता के लिए योजनाबद्ध तरीके से कार्य किया गया है। इसके परिणामस्वरूप एक दर्जन से अधिक शोध प्रोजेक्ट शिक्षकों को मिले। कुलपति के प्रस्तुतीकरण के बाद टीम ने कुलपति सभागार में संकायाध्यक्ष, विभागाध्यक्ष के साथ संवाद कर विश्वविद्यालय से जुड़ी अन्य जानकारियां ली। कुलपति सभागार में टीम ने संकायाध्यक्षों, विभागाध्यक्षों और अध्ययन परिषद के सदस्यों के साथ संवाद किया। उन्होंने उनसे परिसर के पाठ्यक्रमों और शोध के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी ली। प्रो. बीबी तिवारी,  डॉ. अजय द्विवेदी, प्रो. मुराद अली, प्रो. प्रदीप कुमार, प्रो. अजय प्रताप सिंह ने द्विपक्षीय संवाद में अपनी बात रखी। शोध कार्य के बारे में विस्तार से चर्चा की गई। आईक्यूएसी सेल के समन्वयक प्रो. मानस पांडेय ने टीम का स्वागत के साथ परिचय कराया।


इसके बाद एक टीम इंजीनियरिंग संस्थान, प्रबंध संकाय, प्रो. रज्जू भैय्या भौतिकी शोध संस्थान, विज्ञान संकाय में जनसंचार विभाग और विज्ञान संकाय के विभिन्न विभागों का विजिट किया और दूसरी टीम फार्मेसी संस्थान, दत्तोपंत ठेंगड़ी विधि संस्थान के बाद व्यावहारिक मनोविज्ञान पहुंचकर प्रस्तुतीकरण देखा। टीम में प्रो. दिलीप कुमार सैकिया अध्यक्ष,  सदस्य समन्वयक प्रो. शंकर दामोधरन, प्रोफेसर संजय के जैन, प्रो. कृष्णन त्यागराजन, प्रो. देवानंद पाधा, प्रो. वृंद्धा जी. नैक पीयर टीम में विश्वविद्यालय आए हुए हैं। विभागाध्यक्षों ने टीम के सदस्यों को विभाग के शिक्षण, शोध  विद्यार्थियों एवं समस्त गतिविधियों के बारे में बताया। व्यावहारिक मनोविज्ञान, जनसंचार विभाग का प्रस्तुतीकरण देखा। इसी के साथ विद्यार्थियों द्वारा निर्मित डाक्यूमेंट्री एवं विश्वविद्यालय के यू-ट्यूब चैनल के साथ स्टूडियो में जाकर निरीक्षण किया। इसके पूर्व टीम का विश्वविद्यालय अतिथि गृह में औपचारिक स्वागत किया गया। विश्वविद्यालय के गेट पर एनएसएस के पूर्व समन्वयक प्रो. राकेश यादव और रोवर्स रेंजर के समन्वयक डॉ. जगदेव की टीम ने स्वागत किया। दिनभर की गतिविधियों में कुलसचिव महेंद्र कुमार, वित्त अधिकारी उमाशंकर,  परीक्षा नियंत्रक वीएन सिंह, उपकुलसचिव अमृतलाल, सहायक कुलसचिव अजीत सिंह,  दीपक सिंह,  बबिता सिंह,  प्रो. बीबी तिवारी, प्रो. अविनाश पाथर्डीकर,  प्रो. अजय प्रताप सिंह,  प्रो. सुरजीत यादव,  प्रो. रजनीश भास्कर, डॉ. मनोज मिश्र, डा. गिरिधर मिश्र, डॉ. जाह्नवी श्रीवास्तव, डॉ. रसिकेश, डॉ. अनु त्यागी,  डा. प्रवीण सिंह,  सुशील कुमार,  डा. सुनील कुमार,  डॉ. दिग्विजय सिंह राठौर, डॉ. श्याम कन्हैया, डा. धर्मेंद्र सिंह, कर्मचारी संघ के अध्यक्ष नंद किशोर सिंह महामंत्री रमेश यादव, डॉ. पीके कौशिक, राधेश्याम सिंह मुन्ना आदि रहे।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

एंटी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा चपरासी ढाई लाख रुपए घूस ले रहा था चपरासी सहित एसीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद