मकर संक्रांति को भारतीय संस्कृति में महापर्व का दर्जा दिया गया है: गिरीश चन्द्र यादव


जौनपुर। सूर्य की उपासना के सबसे बड़े पर्व मकर संक्रांति को भारतीय संस्कृति में महापर्व का दर्जा दिया गया है। सामाजिक एकता, समरसता, ओजस्विता और प्रगति के पर्व मकर संक्रांति पर खिचड़ी सहभोज का आयोजन करने वाले नगर के कार्यकर्ता बंधु निश्चित ही साधुवाद के पात्र हैं। उपरोक्त बातें खेल एवं युवा कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गिरीश चंद्र यादव ने खिचड़ी सहभोज कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। 
भारतीय जनता पार्टी जिलाध्यक्ष श्री पुष्पराज सिंह जी ने कहा कि समाज के सभी दबे कुचले, शोषित, गरीब भाइयों के साथ भोजन कर उंच नीच जाति-पात का भेदभाव खत्म करने का जो प्रयास भाजपा नगर के कार्यकर्ताओं ने किया है वह समाज के अन्य लोगों के लिए भी अनुकरणीय है।
पूर्व जिलाध्यक्ष श्री हरिश्चंद्र सिंह ने इस अवसर पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि समरस समाज के निर्माण के लिए भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता कटिबद्ध हैं।
उत्तर प्रदेश मीडिया पैनलिस्ट श्री ओमप्रकाश सिंह ने सहभोज के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय संस्कृति एवं हिंदू धर्म में त्योहारों का अपना अलग ही महत्व है और इन त्योहारों को मिल-जुल कर मनाने की परंपरा रही है।
नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष प्रतिनिधि डॉ रामसूरत मौर्य ने सहभोज के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा की खिचड़ी सहभोज का संदेश बहुत ही व्यापक है और इस तरह के कार्यक्रम से सामाजिक एकता बलवती होती है।
भारतीय जनता पार्टी जौनपुर नगर द्वारा आयोजित खिचड़ी सहभोज कार्यक्रम में हजारों रिक्शा चालक, ठेला चालक श्रमिक बंधु व आते जाते राहगीरों ने सहभागिता की।
इस अवसर पर प्रमुख रूप से लैक्फेड के पूर्व अध्यक्ष कुंवर वीरेंद्र प्रताप सिंह, पूर्व विधायक सुरेंद्र प्रताप सिंह, सुशील मिश्रा सुरेंद्र सिंघानिया आमोद सिंह श्याम मोहन अग्रवाल सुनील सेठ संतोष त्रिपाठी राजेश श्रीवास्तव आशीष गुप्ता नीरज सिंह अंबुजानंद जीआदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन अमित श्रीवास्तव ने किया। 

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

एंटी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा चपरासी ढाई लाख रुपए घूस ले रहा था चपरासी सहित एसीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद