क्षय रोग से ग्रसित बच्चे चिन्ता का बिषय, इनकी देख भाल करना हमारी जिम्मेदारी - आनन्दीबेन पटेल राज्यपाल



क्षय रोग से ग्रसित बच्चों को शैक्षणिक संस्थायें गोद लें तो उनकी अच्छी देव भाल कर रोग मुक्त किया जा सकता है। 
  
 जौनपुर। महामहिम राज्यपाल आनंदीबेन पटेल द्वारा वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के सभाकक्ष में रेड क्रॉस सोसाइटी एवं क्षय रोग के मरीजों को गोद लेने वाले समाजसेवी संगठनों के साथ बैठक की गयी। बैठक में महामहिम राज्यपाल ने कहा कि क्षय रोग से ग्रसित बच्चे हमारे समाज के लिए चिन्ता के विषय है, इनकी देख-भाल करना हमारी नैतिक जिम्मेदारी है। जब तक समाज को इनके साथ नही जोड़ा जाएगा तब तक बीमारी नही जाएगी। उन्होंने कहा कि जिन संस्थाओं को उनके साथ जोड़ा गया है वो संस्थाएं अच्छा कार्य कर रही है ये प्रशंसनीय है। क्षय रोग से ग्रसित बच्चों को यूनिवर्सिटी, कॉलेज तथा स्कूल द्वारा गोद लिया जाये तो जनपद में लगभग 50,000 से अधिक क्षय रोग से ग्रसित बच्चों को इनके द्वारा गोद लिया जा सकता है तथा उनकी अच्छी देखभाल करके उन्हे रोगमुक्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि हमारे खून में सेवा भाव है इसीलिए लोग सेवा के लिए लोग आगे आकर कार्य करते है। देश के क्षय रोग से ग्रसित मरीजों में से 20 प्रतिशत मरीज सिर्फ उत्तर प्रदेश में है इसीलिए और अधिक मेहनत एवं लगन से कार्य करने की आवश्यकता है। भारत सरकार ने तय किया है कि 2025 तक टीवी मुक्त किया जाएगा।
राष्ट्रीय क्षय उन्नमूलन कार्यक्रम के अंतर्गत पूर्वांचल विश्वविद्यालय के कांफ्रेंस हाल में आयोजित बैठक में प्रदेश की महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनंदी बेन पटेल के समक्ष जनपद के 23 स्वयं सेवी संगठनों द्वारा 0 से 25 वर्ष तक के क्षय रोग से ग्रसित कुल 709 बच्चों को गोद लिया गया। यह संस्थाएं टी0बी0 ग्रसित लोंगो को गोद लेने के उपरांत उनके हितों के लिए सभी प्रयास जैसे अच्छा पोषण, एवं उनकी अन्य जरूरतों को पूरा करेंगी। 709 टी0बी0 रोगियों में कुल 257 बाल टी0बी0 रोगी भी शामिल हैं जिन्हें गोद लिया गया। कार्यक्रम का प्रेजेंटेशन जिला कार्यक्रम समन्वयक सलिल कुमार यादव द्वारा राज्यपाल के सामने प्रस्तुत किया गया।
रेडक्रास सोसाइटी से सचिव ने बताया कि जनपद में रेडक्रस सोसाइटी द्वारा अत्यन्त निर्धन व्यक्तियों को इलाज के लिए धन उपलब्ध कराना, समय समय पर ब्लड डोनेशन कैम्प लगाने का कार्य किया जा रहा है इसके अतिरिक्त कोरोना काल में 40 लाख रुपये की धनराशि डोनेशन के रुप में एकत्रित की गयी तथा गरीब परिवारों को राशन, कम्बल एवं मास्क वितरित किये गये। रेडक्रास सोसाइटी द्वारा 58 क्षय रोग ग्रसित बच्चों को गोद लिया गया।
 इस अवसर पर राष्ट्रीय क्षयरोग उन्मूलन कार्यक्रम के अन्तर्गत क्षयरोग ग्रसित बच्चों को स्वयं सेवी संस्थाओं द्वारा गोद लेकर सेवा पहुंचाने पर व्यापार मंडल से इन्दू सिंह, रेडक्रास सोसाइटी से सचिव डा मनोज वत्स, संतोष सिंह, अरूण सिंह, अमित गुप्ता एवं डॉ. देवब्रत मिश्र, लायन्स क्लब जौनपुर मेन से सैय्यद मोहम्मद मुस्तफा, एसएसआरएम पैरामेडिकल इंस्टीट्यूट से एस एम रजा, रोटरी क्लब से के के मिश्रा, ठाकुरबाड़ी महिला संस्था से रानी अंजू सिंह, स्वच्छ गोमती संस्था से गौतम गुप्ता, दुर्गा पूजा महासमिति से मोतीलाल यादव, लायन्स क्लब सूरज से राजेन्द्र खत्री, लायन्स क्लब शाहगंज स्टार से मनोज जायसवाल, एंव कृष्ण बिहारी इ.क., राज कान्वेंट, जगत नारायण इ.का., आर एस कान्वेंट इ का को महामहिम ने प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। तथा विभागीय सराहनीय योगदान के लिए डिप्टी सी एम ओ डा आर के सिंह, क्षयरोग अधिकारी डा. राकेश सिंह, क्षयरोग कार्यक्रम कोआर्डिनेटर सलिल यादव, जिला सूचना प्रणाली प्रबन्धक हिमांशु शेखर सिंह को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। रेडक्रस सोसायटी द्वारा महामहिम को स्मृति चिन्ह भेट किये गये।
इस अवसर पर जिलाधिकारी मनीष कुमार वर्मा, पुलिस अधीक्षक राजकरन नैय्यर, मुख्य विकास अधिकारी अनुपम शुक्ला, मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 राकेश कुमार, डा0 आरके सिंह, डा0 मनोज वत्स, सैय्यद मोहम्मद मुस्तफा सहित रेडक्रस सोसायटी तथा समाज सेवी संस्थाओं के सदस्य उपस्थित रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन