आईये जानते है कौन है इमरती देवी और उन्हें ज्योतिरादित्य सिंधिया ने गले क्यों लगाया


केंद्रीय मंत्री बनने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया काे हर तरफ से बधाई मिल रही है।मध्य प्रदेश सरकार की पूर्व मंत्री इमरती देवी दिल्ली में उन्हें बधाई देते समय भावुक हो गईं। इमरती के चेहरे पर मुस्कान थी, पर आंखों से आंसू बहने लगे। यह देखकर सिंधिया भी खुद को नहीं रोक पाए और भावुक होकर इमरती देवी को गले लगा लिया। करीब 20 मिनट तक चली इस मुलाकात में ढेर सारी बातें हुई।
मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री बनने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया का ग्वालियर चंबल अंचल में ही नहीं पूरे मध्य प्रदेश में कद बढ़ा है। इस बढ़ते हुए कद में उन सभी विधायकों का बहुत योगदान है, जिन्होंने कांग्रेस से भाजपा में जाते समय उनके लिए अपने मंत्री और विधायक के पद को दांव पर लगा दिया। इन्हीं में से एक नाम है पूर्व मंत्री इमरती देवी। सबसे पहले सिंधिया के लिए इस्तीफा या मंत्री पद दांव पर लगाने वालों में इमरती सबसे आगे थीं।
अब बुधवार को ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री पद की शपथ ली और उनको नागरिक उड्डयन मंत्रालय मिला तो गुरुवार को इमरती देवी उनसे मिलने दिल्ली पहुंच गईं। गुरुवार को वह मंत्रालय स्थित सिंधिया के दफ्तर पहुंचीं और उनसे मुलाकात कर केंद्रीय मंत्री बनने की बधाई दी।
इमरती को भावुक होते देख सिंधिया खुद को रोक नहीं पाए
जब इमरती देवी ने कहा कि मंत्री बनने की बधाई हो महाराज साहब तो सिंधिया ने मुस्कुरा कर अभिवादन स्वीकार किया। पर इसी समय इमरती देवी भावुक हो उठीं और उनकी आंखें आंसू से भर आईं। यह आंसू खुशी के थे, लेकिन यह देखकर केंद्रीय मंत्री सिंधिया से भी रहा नहीं गया और वह भी भावुक हो उठे। उन्होंने दो कदम आगे बढ़कर तत्काल इमरती देवी को गले लगा लिया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर : सुभासपा से जफराबाद विधान सभा सीट पर चुनाव लड़ सकते है डा जेपी सिंह

सपा के घोषित 56 प्रत्याशियों की सूची में जौनपुर के इन चार सीटो के प्रत्याशी घोषित

यूपी के दस सबसे अमीर विधायक : किसी के पास 35 से ज्यादा ट्रक तो कोई चलाता है 15 लाख की बाइक,जानें माननियों की कुंडली