गजब जिस ब्लाक में पति सफाईकर्मी उसी ब्लाक की प्रमुख बन गयी पत्नी


हमारे देश का लोकतंत्र कतार के अंतिम व्यक्ति को भी नेतृत्व का अवसर प्रदान करता है। यही लोकतांत्रिक व्यवस्था की कामयाबी है। सफाईकर्मी सुनील कुमार ने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि जिस ब्लाक क्षेत्र में वह रोज सफाई करते हैं, एक दिन उनकी धर्मपत्नी सोनिया वहीं की ब्लाक प्रमुख बन जाएंगी। अब सोनिया भाजपा से ब्लाक प्रमुख का दायित्व संभाल चुकी हैं। सुनील कई सालों से बलियाखेड़ी ब्लाक में सफाई कर्मचारी हैं। उनकी पत्नी सोनिया सामान्य गृहणी हैं। बीए पास पत्नी को सुनील ने बीडीसी का चुनाव लड़वा दिया। चुनाव जीतने के बाद ब्लाक प्रमुख पद के लिए मारामारी शुरू हुई।
आम सहमति बनी
निर्विरोध ब्लाक प्रमुखसत्ताधारी भाजपा को यहां आरक्षण के मुताबिक अनुसूचित जाति की शिक्षित महिला की तलाश थी। भाजपा नेता मुकेश चौधरी ने बीडीसी सोनिया के नाम का प्रस्ताव दिया तो भाजपा में आम सहमति बन गई। अब सोनिया के पास भाजपा का समर्थन था। रस्साकसी में विपक्षी एक-एक कर हटते गए और सोनिया को बलियाखेड़ी ब्लाक का निर्विरोध ब्लाक प्रमुख चुन लिया गया।
ऐसे मिला मौका
गांव नल्हेडा गुर्जर निवासी सुनील कुमार विकासखंड बलियाखेडी में सफाई कर्मचारी के पद पर अपने ही गांव में कार्यरत हैं। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव घोषित हुए तो बीडीसी की सीट आरक्षण के चलते अनुसूचित जाति वर्ग में आरक्षित हो गई। गांव वालों के कहने पर सुनील कुमार ने बीडीसी सदस्य के लिए अपनी पत्नी सोनिया को चुनाव लड़ाया, जिसमें उन्हें जीत हासिल हुई। ब्लाक प्रमुख पद भी अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित हुआ तो भाजपा नेता व जिला पंचायत सदस्य मुकेश चौधरी ने पढ़ी लिखी सोनिया को भाजपा की ओर से प्रमुख पद का प्रत्याशी बनवा दिया। नामांकन करने के साथ ही 26 वर्षीय सोनिया निर्विरोध ब्लाक प्रमुख निर्वाचित हो गईं।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर रात एक छात्रा को बंगले पर भेजो'SDM पर महिला हॉस्टल की अधीक्षीका ने लगाया 'गंदी डिमांड का आरोप; अधिकारी ने दी सफाई

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर

महज 20 रूपये के लिए रेलवे से लड़ा 22 साल मुकदमा और जीता,जानें क्या है मामला