आईटीआई के लिए आन लाइन आवेदन शुरू जानें कैसे होगी प्रवेश परीक्षा,क्या है गाइड लाइन


हाईस्कूल का परिणाम आने के बाद उत्तर प्रदेश के आईटीआई कॉलेजों में दाखिले के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू हो गया है। अभ्यर्थी वेबसाइट पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। मिली जानकारी के मुताबित उसका शुल्क भी ऑनलाइन जमा किया जाएगा। इसमें आवेदन 28 अगस्त तक ही किये जा सकेंगे। उत्तर प्रदेश में करीब 305 राजकीय आईटीआई कॉलेज है। यूपी में एक लाख से अधिक राजकीय कॉलेज हैं उत्तर प्रदेश कुल राजकीय कॉलेजों में करीब 120575 सीटें हैं। इसके अलावा दो हजार से ज्यादा निजी आईटीआई कॉलेज भी हैं। जिनमें तीन लाख से ज्यादा सीट हैं। इन कॉलेजों में हाई स्कूल के नतीजों के आधार पर में दाखिला लिया जाएगा। और उसी के आधार पर मेरिट लिस्ट बनेगी। 
अभ्यार्थियों का परीक्षा शुल्क सामान्य और पिछड़े वर्ग के अभ्यर्थियों को 250 रुपये आवेदन शुल्क जमा करना होगा। और अनुसूचित जाति औरअनुसूचित जनजातियों के अभ्यर्थियों के लिए आवेदन शुल्क 150 रुपये निर्धारित किया गया। आवेदन के दौरान किसी भी तरह की मदद के लिए राज्य व्यवसायिक प्रशिक्षण परिषद उत्तर प्रदेश की ओर से हेल्पलाइन नंबर भी जारी कर दिए गए हैं। छात्र-छात्रओं के लिए परिषद ने हेल्पलाइन भी जारी की छात्र-छात्राएं हेल्पलाइन की मदद से अपने सवालों के जवाब हासिल कर सकते हैं। व्यावसायिक शिक्षा और कौशल विकास विभाग के विशेष सचिव अधिशासी निदेशक हरिकेश चौरसिया ने बताया कि प्रदेश के राजकीय और निजी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में प्रशिक्षण सत्र 2021 के लिए कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन करते हुए अभ्यर्थी ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। वेवसाइट पर जाकर छात्र अपना फार्म भर सकता है हाईस्कूल की परीक्षा पास करने वाले अभ्यार्थी आईटीआई के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो इस वो विभाग की अधिकारी साइट पर जाकर अपना रजिस्टेशन कर सकते हैं। इसके लिए वेबसाइट www.scvtup.in पर जाकर संबंधित लिंक पर क्लिक कर छात्र अपना फार्म भर सकता है। ऑनलाइन आवेदन में सहायता के लिए विवरणी ई-फार्म और अधिक जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध है।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?