चाणक्य परशुराम के आदर्शों का अनुसरण करेगा ब्राह्मण समाज




कौटिल्य संघर्ष समिति द्वारा वैचारिक संगोष्ठी का आयोजन

जौनपुर। आचार्य चाणक्य एवं भगवान परशुराम के आदर्शों का अनुसरण करते हुए ब्राह्मण समाज ने राजनीति में अपनी भागीदारी को मजबूत करने का निर्णय लिया है। ब्राह्मण समाज के लोग भारी संख्या में आज आचार्य कौटिल्य संघर्ष समिति द्वारा आयोजित वैचारिक संगोष्ठी में एकत्र हुए थे। संगोष्ठी का आयोजन सिद्धार्थ उपवन में किया गया था।
इस अवसर पर "उत्तर प्रदेश की राजनीति में ब्राह्मण समाज की भूमिका" विषयक संगोष्ठी के संयोजक सुशील उपाध्याय ने कहा कि आज ब्राह्मण समाज की राजनीतिक हैसियत को बढ़ाने की जरूरत है। ब्राहमण समुदाय ही वैदिक सभ्यता से जोड़ने वाला वर्ग रहा है। समाज के सभी वर्गों ने धर्म संस्कृत बचाने के लिए लड़ाई लड़ी परंतु  ब्राह्मण वर्ग ही था जिन्होंने युद्ध के साथ सनातन धर्म की रक्षा की है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रवाद और सनातन धर्म की रक्षा करने वाले वर्ग को आज सम्मान का भूखा होना पड़ रहा है। हमें अपने महापुरुषों के बताए हुए मार्ग पर चलकर अपने सम्मान को पुनर्स्थापित करने की जरूरत है।
कार्यक्रम के प्रारंभ में गोष्ठी का विषय प्रवर्तन करते हुए वरिष्ठ पत्रकार डॉ मधुकर तिवारी ने कहा कि आज समाज के हर वर्ग के निशाने पर ब्राह्मण समुदाय है। राजनीतिक तौर पर केवल वोट बैंक रह गया है। कभी यह वर्ग राजनीति नेतृत्व करता था। उस नेतृत्व को पुनर स्थापित करने के लिए समाज को एकजुट होना पड़ेगा। कार्यक्रम में डॉ अर्चना शुक्ला ने ब्राह्मणों की रक्षा पर बल देते हुए कहा कि शक्ति अर्जन के लिए राजनीतिक प्रभाव बढ़ाने हेतु एकमत एक मंच पर होने की आवश्यकता है। कार्यक्रम में विजय प्रकाश तिवारी रवींद्र मिश्र पंकज मिश्र रामचंद्र मिश्र दिनेश शुक्ल राकेश मिश्र मंगला राम यज्ञ पांडे सुभाष शुक्ला कमलेश राम यज्ञ मिश्र  ने बोलते हुए कहा कि समाज संगठित होकर ही उत्तर प्रदेश की राजनीति में अपना स्थान बना सकता है। आज समाज ड्राइविंग सीट पर भले ही ना हो पर ड्राइविंग फोर्स आज भी ब्राह्मणों के हाथों में है। वक्ताओं ने कहा कि कौटिल्य संघर्ष समिति आने वाले समय में जनपद के विभिन्न अंचलों में ब्राह्मण सभाएं कर राजनीतिक चेतना के लिए कार्य करेगा। इस अवसर पर समिति द्वारा जनपद जौनपुर का नाम यमदग्नि ऋषि के नाम पर रखने का निर्णय लिया।  सरकार से आग्रह किया कि जनपद जौनपुर का नाम बदलने पर पूरा ब्राह्मण समाज 2022 में चुनाव में सरकार के साथ आ सकता है।
कार्यक्रम की अध्यक्षता गिरजा प्रसाद तिवारी ने किया संचालन अवनींद्र तिवारी ने तथा धन्यवाद ज्ञापन डॉ ब्रम्हेश शुक्ल ने किया। इसके पूर्व संगोष्ठी में आए सभी बंधुओं का तिलक लगा और रक्षा सूत्र बांधकर  स्वागत किया गया। स्वस्तिवाचन शंखनाद एवं भगवान परशुराम के चित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन के साथ कार्यक्रम का शुभारंभ हुआ।
कार्यक्रम में महेंद्र विजय शुक्ला,प्रकाश शुक्ला, राजकिशन शर्मा संतोष मित्र संतोष दुबे ब्रह्म देव तिवारी मयंक शुक्ला राज केसर मिश्र कृष्ण कुमार दुबे सुदामा पांडे मनोज दुबे राजेश्वर मिश्रा ब्रह्मदेव तिवारी संतोष दिक्षित कृष्ण कुमार दुबे अरुण उपाध्याय देवराज पांडे यादवेंद्र मिश्र के पी मिश्र अरुण उपाध्याय आदि लोग उपस्थित थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक