सवाल: आखिर सत्ताधारी दल के जन प्रतिनिधि नेसेक्स रेकैट संचालक को बचाने हेतु पुलिस पर दबाव क्यों बनाया?



जौनपुर। सत्ता का मद और राजनीति गलत सही में शायद अब विभेद नहीं कर पा रही है इसीलिए तो बीते दिवस जनपद जौनपुर के थाना मुंगरा बादशाहपुर की पुलिस द्वारा थाना क्षेत्र के अन्दर बाम्बे गेस्ट हाउस के मालिक द्वारा सेक्स रैकेट चलाये जाने की सूचना पर दविस देकर जब उसमें शामिल महिलाओ और पुरुषों को गिरफ्तार किया गया तो सत्ताधारी दल के बड़े नेता जन प्रतिनिधि गण जिसमे एक राज्य सभा सदस्य का भी नाम है के द्वारा सेक्स स्कैंडल चलाने वाले गेस्ट हाउस स्वामी को बचाने के लिए इतना दबाव पुलिस पर बनाया गया कि उसका कोई पुरसाहाल नहीं वह अलग बात है कि पुलिस ने सभी दबाओ के झेलते हुए विधिक कार्यवाई किया है। ऐसे में यह सवाल तो खड़ा ही होता है कि जब सत्ताधारी दल के जन प्रतिनिधि अपराध करने वालों के मदतगार बनेंगे तो पुलिस अपराध पर नियंत्रण कैसे कर सकेगा और अपराध पर रोक कैसे लग सकेगी। यह एक जबरदस्त सवाल ऐसे जन प्रतिनिधियों से है जो सत्ता के मद में चूर है और गलत कृत्य में सरकारी तंत्र पर दबाव बनाते है। 
यहां बता दें कि विगत बुधवार की शाम मुंगराबादशाहपुर पुलिस द्वारा बाम्बे गेस्ट हाउस में छापेमारी करके संदिग्ध परिस्थितियों में 7 युवक और युवतियो को गिरफ्तार किया गया जबकि गेस्ट हाउस संचालक पिछले चोर दरवाजे से फरार हो गया था इसमें पुलिस जब पकड़े गये जोड़ो के साथ गेस्ट हाउस मालिक पर विधिक कार्यवाई शुरू किया तो भाजपा की नेता एवं राज्य सभा सदस्य का जोर दार दबाव थाना प्रभारी एवं अधिकारी पर दिया गया ऐसी खबर वायरल है। क्योंकि गेस्ट हाउस संचालक उनका स्वजातीय एवं समर्थक बताया जा रहा है। छापा मारी टीम के एक सदस्य ने नाम गोपनीय रखने की शर्त पर जानकारी दिया कि जन प्रतिनिथि का दबाव काफी था लेकिन मामला मीडिया तक पहुंचने की वजह से नहीं दब सका पुलिस ने कार्यवाई किया। 
यहां आपको बता दें कि थानाध्यक्ष संतोष कुमार शुक्ल व एन्टी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिट प्रभारी सतीश सिंह द्वारा बॉम्बे गेस्ट हाउस पर विगत बुधवार की देर शाम छापेमारी की गयी थी जिसमे तीन जोड़े आपत्तिजनक स्थिति में पकड़े गए थे। उनके पास से निरोध व टूटी चूड़ियां भी बरामद हुई थी। खास मुखबिर की सूचना पर क्षेत्राधिकारी अतर सिंह व सतीश कुमार सिंह मय फ़ोर्स के साथ बॉम्बे गेस्ट हाउस पर छापा मारा मैनेजर थाना क्षेत्र के रामनगर निवासी संतोष शुक्ल से पूछताछ कर विभिन्न कमरों की तलाशी ली तलाशी के दौरान अलग अलग कमरे से राज कुमार यादव एवं शाजमा निवासी रामपुर थाना फतनपुर प्रतापगढ़, राजधारी चौहान व राधिका निवासी ग्राम महेंद्रू थाना पवांरा, तीसरे कमरे से सुनील कुमार बीरापुर थाना फतनपुर व शकुंतला ग्राम छिवैया थाना झूंसी प्रयागराज देह ब्यापार के अनैतिक कार्य मे लिप्त पाये गये।
इनके पास से निरोध व टूटी चूड़ियां बरामद हुई।    इसके अलांवा चार जोड़े और भी मिले थे। इस छापामारी में महिला सिपाही सुमनं यादव व माया , ओमप्रकाश मिश्र, विनोद कुमार सिंह , बृजेश कुमार यादव ,राजकुमार सोनकर रहे पुलिस ने धारा 3 /4 /5 अनैतिक देह निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत कर सात युवक और युवतियो को जेल भेज दिया। लेकिन राजनैतिक दबाव के चलते असली गुनाहगार गेस्ट हाउस संचालक को जेल की सलाखों के पीछे नहीं पहुंचा सकी। यह जनपद में खासा चर्चा का बिषय बना हुआ है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात

सीएम योगी के एक ट्वीट से लखनऊ का नाम बदलने की सुगबुगाहट, जानें क्या हो सकता है नया नाम