सामाजिक और सांस्कृतिक विरासत को पीढ़ी दर पीढ़ी हस्तांतरित करने का सशक्त माध्यम है शिक्षक - डॉ गोरखनाथ पटेल



अमृत महोत्सव के तहत बेसिक शिक्षा विभाग में शुरू हुआ सूर्य-नमस्कार


जौनपुर। आजादी के पचहत्तरवें वर्ष में मनाये जा रहे अमृत महोत्सव के तहत किये जानें वाले पचहत्तर करोड़ बार सूर्य-नमस्कार के तहत आज सोमवार को जिला शिक्षा प्रशिक्षण संस्थान में छात्राध्यापकों द्वारा सूर्य-नमस्कार को करके बेसिक शिक्षा परिषद में इसका औपचारिक शुभारंभ हुआ।
सूर्य-नमस्कार का औपचारिक शुभारंभ करते हुए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डॉ गोरखनाथ पटेल द्वारा बताया गया कि शिक्षक किसी भी राष्ट्र की सामाजिक और सांस्कृतिक विरासत को पीढ़ी दर पीढ़ी हस्तानांतरित करनें का सशक्त माध्यम होता है इसलिए शिक्षक अपनी प्राचीनतम विरासत योग को जन जन तक पहुंचाकर लोगों को स्वस्थ और खुशहाल बनाकर समृद्ध समाज के निर्माण में अपनी महति भूमिका को निभायें। सूर्य-नमस्कार के प्रान्तीय समन्वयक अचल हरीमूर्ति और सोशल मीडिया के प्रान्तीय प्रभारी कुलदीप योगी के द्वारा सूर्य-नमस्कार को कराते हुए बताया गया की नियमित और निरन्तर इसका अभ्यास करके प्रत्येक व्यक्ति अपनें स्वास्थ्य को सर्वोत्तम बना सकता है और प्रतिदिन तेरह बार इसका अभ्यास इक्कीस दिनों तक करके अमृत महोत्सव के तहत भारत सरकार से इसका प्रमाणपत्र प्राप्त कर सकता है।


इस मौके पर जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान के वरिष्ठ प्रवक्ता डॉ आर.एन यादव, खण्ड शिक्षा अधिकारी सुरेन्द्र पटेल,संजय यादव,उदय नारायन,नवीनङ सिंह,नीरजमणि त्रिपाठी, राजकुमार, निकिता जैन,मनोज सिंह, चन्द्रशेखर, मिथिलेश,किरन त्रिपाठी सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा ने पहले फेज के चुनाव हेतु प्रत्याशियों की जारी की सूची इन लगाया दांव

थाने में खड़ी गाड़ियां दीवान ने कबाड़ी को बेचीं, एसपी ने किया निलंबित, कबाड़ी भी गिरफ्तार

आइए जानते है मुन्ना बजरंगी के भाई को पुलिस ने क्यों किया गिरफ्तार