लोकसभा में गूंजी बदलापुर थाने की पुलिसिया करतूत,सांसद जौनपुर ने कठोर कार्रवाई की किया मांग

 



जौनपुर। जनपद के थाना बदलापुर पुलिस की दलित महिलाओ के उपर की गयी बर्बर पिटाई मामले की गूंज अब देश की सर्वोच्च पंचायत लोकसभा में पहुंच गयी है। अधिकारी दोषी पुलिस जनों के खिलाफ कार्यवाई कब करेंगे लेकिन थाना बदलापुर पुलिस की कारस्तानी अब देश और प्रदेश के सदन में गूंजने लगी। 

यहां बता दे कि थाना बदलापुर क्षेत्र स्थित ग्राम देवरिया में विगत 20 मार्च 22 की एक घटना को लेकर उपजे मामले में थाना बदलापुर की पुलिस ने देवरिया गांव के दलित बस्ती की छह महिलाओ सहित दो पुरुषो कुल 08 को हिरासत में लेकर थाने गयी और रात्रि के समय ही सीसीटीबी कैमरा बन्द कर दलित महिलाओ को बड़ी बेरहमी के साथ पीटा इतना मारा कि महिलाओ की स्किन काली पड़ गयी थी। 

घटना की जानकारी होने के पश्चात जनपद जौनपुर के सांसद श्याम सिंह यादव खासे गम्भीर हुए और घटना की अपने स्तर से जांच कराने के बाद इस घटना को लोकसभा में उठाते हुए कहा कि यूपी के राम राज टू की सरकार में छुट्टा जानवरो की तरह पुलिस भी छुट्टा हो गयी है। गांव के सामन्य लोंगो सहित सम्भ्रान्त जनों को थाने पर ले जा कर बेइज्जत करती हुई उनके साथ बदसलूकी कर रही है लेकिन उनके खिलाफ एक्शन नहीं हो रहा है। 


सांसद श्री यादव ने जौनपुर जनपद के थाना बदलापुर स्थित ग्राम देवरिया के घटना के कहांनी का जिक्र करते हुए कहा कि बदलापुर की पुलिस ने दलित महिलाओ को थाने पर ले जा कर बुरी तरह से पिटाई किया हैवानियत की सारी हदें पार कर दिया है। सांसद श्री यादव ने दलित महिलाओ के साथ बदसलूकी करने और निर्वस्त्र कर पिटाई करते हुए उन्हे बेइज्जत करने वाले पुलिस कर्मियों के खिलाफ शख्त से शख्त कार्यवाई की मांग किया है। लोकसभाध्यक्ष ने गम्भीरता से लेते हुए विधिक कार्यवाई का आश्वासन दिया है। हलांकि पुलिस विभाग के अधिकारी अब तक दलित महिलाओ के साथ बदसलूकी करने वाले पुलिस जनों पर कार्रवाई नहीं की है। जो अधिकारियों को सवालो के कटघरे में खड़ा करता है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात

सीएम योगी के एक ट्वीट से लखनऊ का नाम बदलने की सुगबुगाहट, जानें क्या हो सकता है नया नाम