जिला पंचायत के इन अनुपस्थित अधिकारी और कर्मचारियों पर गिरी गाज, जानें क्या हुई कार्रवाई



जौनपुर। जिलाधिकारी के आदेश पर अपर जिलाधिकारी भू-राजस्व राजनीश राय ने 30 मार्च 2022 को जिला पंचायत कार्यालय जौनपुर का आकस्मिक निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान जिला पंचायत कार्यालय की स्थिति अत्यन्त दयनीय मिली है। अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत जगप्रसाद मौर्य सहित अभियन्ता अखिलेश सिंह तथा अमर बहादुर सिंह, अनुराग श्रीवास्तव व अभिलाष कुमार व मनोज कुमार यादव अवर अभियन्ता तथा शत्रुधन प्रसाद वर्मा, कर अधिकारी, जिला पंचायत कार्यालय में अनुपस्थित थे और उपस्थिति में इनका नाम भी दर्ज नहीं था। उपरोक्त सभी सातो लोगों के पूरे माह का वेतन बाधित करते हुए इनके वेतन के आहरण- वितरण पर रोक लगाये जाने की संस्तुति पत्र जिलाधिकारी जौनपुर को भेजा गया है, जिसमें लेखाकार राधेरमण यादव 28, 29 व 30 तक लगातार अनुपस्थित रहे। प्रशासनिक अधिकारी धनंजय सिंह, वरिष्ठ लिपिक श्रीमती सविता श्रीवास्तव, कार चालक लल्लन प्रसाद यादव, वरिष्ठ लिपिक अशोक कुमार यादव, कनिष्ठ प्रो0 अभय राम, कनिष्ठ लिपिक श्रीमती मीरा देवी, अनुचर सत्य नारायण उपाध्याय, स्वीपर नियाज अहमद, दफदरी श्रीमती बबीता श्रीवास्तव, अनुचर श्रीमती शारदा देवी, विशाल अनुपस्थित रहे।
इस पर उपरोक्त सभी कर्मचारियों की एक दिन का वेतन बाधित करते हुए इनके वेतन के आहरण-वितरण पर रोक लगाए जाने की संस्तुति की गई है। इसके अतिरिक्त उपस्थिति पंजिका में दर्ज कर्मचारियों में अधिकांश लोग समय से कार्यालय नहीं मिले और उपस्थित पंजिका पर अंकित कर्मचारियों में भी कुल 13 कर्मचारी उपस्थित पंजिका पर हस्ताक्षर भी नहीं करते हैं और न ही यह लोग जिला पंचायत का कार्य करते हुए प्रतीत हो रहे हैं। ऐसी सभी कर्मचारियों का पूरे माह का वेतन बाधित करते हुए इनके वेतन के आहरण वितरण पर रोक लगाए जाने की संस्तुति की गई है जिसमें राजस्व निरीक्षक राना रबि कुमार सिंह, पवन कुमार यादव, रामसेवक, सहायक निरीक्षक महेंद्र प्रसाद यादव, सुनील कुमार, प्रमोद कुमार, शिव शंकर यादव, हरेंद्र कुमार, बहुगुणा पाल, संजय कुमार यादव, अमित कुमार सिंह, जीतू कुमार, रामअशीष यादव अनुपस्थित पाए गए।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन