छुट्टा पशुओ को पकड़ने हेतु नगर पालिका में कागजी बाजीगरी का खेल,पशुओ का आतंक बरकरार


जौनपुर। जनपद मुख्यालय पर छुट्टा पशुओं के बढ़ते आतंक को देख डीएम मनीष कुमार वर्मा ने 
शहर में विचरण कर रहे छुट्टा मवेशियों की धर पकड़ का शख्त निर्देश नगर पालिका को दिया नगर पालिका के कागज में तो धर-पकड़ शुरू हो गयी है। लेकिन शहर की गलियों में जैसे स्थानो पर नगर पालिका के कर्मचारी जाना उचित नहीं समझते है। परिणाम स्वरूप छुट्टा पशुओ का आतंक मुख्य सड़क से हट कर गलियों में अधिक हो गया है।इसके अलांवा छुट्टा पशु शहर के हर एक व्यस्तम बाजारों में मिल जाएंगे। यह पशु सड़क के बीचोंबीच विचरण करते रहते हैं। आपस में भिड़ने के चलते राहगीर भी इनकी चपेट में आकर घायल हो जाते हैं। कितने की तो जान भी जा चुकी है।
डीएम मनीष कुमार वर्मा ने इस मामले को गम्भीरता से लिया। ईओ व पालिकाध्यक्ष को निर्देश दिया कि जनपद में छुट्टा पशु जो विचरण करते मिले उन्हें गोशाला में भिजवाया जाए। डीएम का निर्देश मिलते ही नगर पालिका अध्यक्ष माय टंडन व ईओ संतोष मिश्रा ने कर्मचारियों संज्ञान में लेते हुए तत्काल कार्यवाही में लग जानें का आदेश दिया है। सोमवार को नगर के विभिन्न स्थानों पर कैटल कैचर वाहन से छुट्टा पशुओं को पकड़ कर अस्थाई गौशाला कृषि भवन में भिजवाया। मालूम हो कि इस गोशाला में पशुओं की देखभाल अच्छी तरह से किये जाने का आदेश है। दोनों टाइम सरकारी पशु डाक्टर की देखरेख में सभी पशुओं को टैग करके रखा जा रहा है। गोशाला प्रभारी हरिश चंद्र यादव का दावा है कि प्रतिदिन अभियान चलाकर छुट्टा पशुओं को पकड़ कर लाया जा रहा है।इस समय गोशाला में 464 पशु हैं।लेकिन यहां पर यह भी बता दे कि सिपाह पुलिस चौकी के पीछे गली में यदि अधिकारी निरीक्षण कर ले तो गोशाला प्रभारी के दावे पर सवाल जरूर खड़ा नजर आयेगा।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

खुशखबरी: बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग में मुख्य सेविका पद पर होगी भर्ती,जानें कौन कर सकेगा आवेदन