जानते है मौसम और मानसून का हाल, कब मिलेगी भीषण गर्मी से निजात,किस रास्ते से आ रहा है मानसून



जौनपुर। मानसून को लेकर मौसम विज्ञानियों ने अपना बयान जारी करते हुए अनुमान बताया है कि खुशखबरी यह है कि आखिरकार एक सप्ताह के अन्दर मानसून आने की उम्‍मीदें बढ़ गई हैं। मानसूनी की सक्रियता के बीच अब हालात यह बन गए हैं कि पहले जो मानसून सोनभद्र के रास्‍ते उत्‍तर प्रदेश में दाखिल होता था वह अब गोरखपुर और बलिया जिले के रास्‍ते दाखिल हो सकता है।

मौसम विभाग की ओर से मानसून की रफ्तार में इजाफा का संकेत है। सोमवार की दोपहर जारी रिपोर्ट के अनुसार मानसून अब सिक्किम के आगे उत्‍तरी पश्चिम बंगाल के साथ ही उत्‍तरी बिहार में भी सक्रिय हो चुका है। जबकि दक्षिण की ओर बंगाल की खाड़ी में ही अभी मानसून लगभग दो सप्‍ताह से ठहरा हुआ है। माना जा रहा है कि आने वाले कुछ दिनों अथवा इसी सप्‍ताह के आखिर तक मानसून पूर्वांचल के रास्‍ते उत्‍तर प्रदेश में दाखिल हो जाएगा।


मौसम विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार अब मानसून कर्नाटक, तमिलनाडु, केरल और गोवा के साथ ही पूर्वोत्‍तर भारत के राज्‍यों में पूरी तरह सक्रिय हो चुका है। जबकि आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और गुजरात में मानसून की दस्‍तक हो चुकी हैं और यहां कई इलाकों में मानसून बारिश भी करा रहा है। दक्षिण पश्चिम मानसून अब मध्‍य प्रदेश की सीमा पर दस्‍तक दे रहा है।

पूर्वोत्‍तर से आगे बढ़ा मानसून अब पश्चिम बंगाल और बिहार में भी दस्‍तक दे चुका है। पटना तक जल्द मानसूनी सक्रियता की उम्‍मीद है तो दूसरी ओर सप्‍ताह भर में मानसून पूर्वांचल के रास्‍ते उत्‍तर प्रदेश में भी दस्‍तक देने जा रहा है।पूर्वांचल में इस बार मानसून सोनभद्र की जगह गोरखपुर या बलिया के रास्‍ते दस्‍तक दे सकता है। इसकी वजह बंगाल की खाड़ी में मानसून के हालात में स्थिरता है। मौसम विभाग के आंकड़ों के अनुसार मानसून अब सक्रिय मोड में अरब सागर की ओर है। वहीं पूर्वोत्‍तर से भी मानसूनी बादल आगे बढ़े हैं। इस लिहाज से अगला पखवारा शुरू होने के बाद बारिश और बूंदाबांदी के साथ ही बादलों की सक्रियता का दौर उत्‍तर प्रदेश में शुरू हो जाएगा। 


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन