गोलीकांड की सूचना देनेवाला ही निकला,गोली बाज पुलिस ने किया गिरफ्तार, भेजा सलाखों के पीछे



जौनपुर। थाना मड़ियाहूँ पुलिस ने झूठी सूचना देकर थाने पर मुकदमा लिखाने वाले को गिरफ्तार कर लिया और जेल भेजने की कार्यवाई कर रही है। इस संदर्भ में अपर पुलिस अधीक्षक ने जारी अपने बयान में बताया है कि 01 सितम्बर की सायंकाल 04 बजे थाना क्षेत्र स्थित रामनगर निवासी सुशील सरोज एवं आशीष सरोज ने थाने सूचना दी कि वह दोनो मोटर साईकिल से बेलवा  बाजार से आगे बडेरी सुशील की नानी के घर जा रहे थे कि रास्ते में बेलवा बाजार से आगे पेट्रोल पम्प के थोड़ी दूर पहले समय करीब 03.00 बजे दो मोटर साईकिल से चार व्यक्ति इनकी मोटर साईकिल को ओवरटेक करके रोके तथा इनकी मोटर साईकिल चला रहे आशीष को उन मोटर साईकिलो पर सवार व्यक्तियो मे से पीछे बैठे एक व्यक्ति ने गोला मार दी और मछलीशहर की तरफ भाग गये। 
आशीष सरोज को सुशील सरोज द्वारा मोटर साईकिल पर बैठा कर इलाज हेतु ले जाया गया इसके बाद थाना पर आकर तहरीरी सूचना के आधार पर मु.अ.सं. 301/2022 धारा 307 भा.द.वि. बनाम 04 व्यक्ति नाम पता अज्ञात के अभियोग पंजीकृत किया गया। विवेचना के क्रम में प्र.नि. मडियाहूँ द्वारा अपनी टीम के साथ आज शुक्रवार को वादी मुकदमा का बयान लेने के पश्चात घटनास्थल निरीक्षण हेतु पहुँचे जहाँ बताये जा रहे कथित घटनास्थल का निरीक्षण किया।
आस-पास के लोगो से पूछ ताछ व कथित घटनास्थल से 20 कदम की दूरी पर स्थित पेट्रोल पम्प के सी.सी.टी.वी. फुटेज का अवलोकन किया गया। आस-पास के लोगो द्वारा  01 सितम्बर को 03 बजे दिन के आस पास गोली चलने की कोई आवाज नहीं सुनी गयी तथा सी.सी.टी.वी. फुटजे से घटना के समय के आस पास के समय संदिग्ध दशा में मुँह बांधे हुए दो मोटर साइकिल सवार नहीं दिखे, जिस पर वादी सुशील से पुनः पूछ ताछ की जाने लगी तो वह भागने लगा कि जिस पर पुलिस द्वारा संदिग्ध अवस्था देख कर तत्काल सुशील सरोज को पकड़ लिया गया जिससे भागने का कारण पूछा गया तो उसके द्वारा सच्चाई बताया कि वह किसी बात को लेकर आशीष सरोज से रंजिश रखता था तथा अपने एक अन्य मित्र से योजना बना कर असलहा मंगाया जिसे आशीष सरोज को दिखा रहा था, आशीष सरोज के पास भी एक असलहा था जिससे आशीष सरोज ने सुशील सरोज पर फायर किया किन्तु सुशील सरोज बच गया, सुशील ने आशीष से असलहा छीन लिया और अपने पास लिये हुए असलहे से आशीष सरोज को जान से मार देने की नियत से फायर कर दिया गया गोली आशीष सरोज के सीने मे बीच मे लगी, किसी वाइटल पार्ट पर गोली न लगने के कारण आशीष सरोज होश में रहा। चूकिं आशीष सरोज रिश्ते में सुशील सरोज का चचेरा भाई है इसलिए भाई होने व फंसने से बचने के नाते वह उसे मोटर साईकिल से लेकर आरोग्यम हास्पिटल गया रास्ते मे सुशील सरोज का मित्र मिला जिसे सुशील ने घटना में प्रयुक्त असलहा दे दिया, हास्पिटल तीनो लोग पहुँचे जहां चिकित्सक को बताया कि मोटर साईकिल चलाते समय कोई चीज सामने से टकराई है जिस पर चिकित्सक ने एक्स-रे कराने हेतु कहा ये लोग आशीष सरोज का एक्सरे परीक्षण कराये तो उसमे मेटल पार्ट दिखाई देने पर चिकित्सक ने थाना पर सूचना देने व सरकारी अस्पताल मे इलाज हेतु निर्देशित किया गया। जिसके उपरान्त तीनो लोगो ने मनगढ़न्त कहानी रची इसके बाद सुशील सरोज का मित्र घटना मे प्रयुक्त असलहा लेकर भाग गया तथा सुशील सरोज व आशीष सरोज द्वारा थाना पर आकर अज्ञात व्यक्तियो द्वारा गोली मारने की सूचना दी गयी। 
लेकिन जांच में घटना झूठी साबित होने घटना के सम्बन्ध में समुचित धाराओ की बढ़ोत्तरी करते हुए सुशील सरोज को गिरफ्तार कर लिया गया है जिसके निशान्देही पर घटना के समय रखे गये दूसरे असलहे को बरामद कर लिया गया है। अभियोग पंजीकृत कर अभियुक्त को जेल भेजा जा रहा है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मौसम विभाग का एलर्ट इन 23 जिलो में हवाओ के साथ होगी बरसात

दुर्गा पूजा पंडाल में लगी आग छ: की मौत 50 से अधिक झुलसे सभी बीएचयू ट्रामा सेंटर रेफर

खाकी वर्दी में घूम रहा नकली फर्जी, जालसाज इंस्पेक्टर गिरफ्तार, लड़क‍ियों की श‍िकायत