पुरानी पेंशन बहाली हेतु केंद्रीय एवं राज्य कर्मियों का जौनपुर जंक्शन पर संयुक्त धरना


पुरानी पेंशन नहीं हुई बहाल तो रेल का चक्का होगा जाम:कामरेड सीपी सिंह

पीएफआरडीए काला कानून संसद में रद्द हो: डॉ प्रदीप सिंह

 आज दिनांक 21 फरवरी 2023 को पुरानी पेंशन बहाली हेतु जौनपुर जंक्शन के प्लेटफार्म संख्या एक पर नेशनल ज्वाइंट काउंसिल ऑफ एक्शन के आह्वान पर नारर्दन रेलवे मेंस यूनियन जौनपुर शाखा एवं राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद जौनपुर द्वारा संयुक्त रूप से आम सभा/ धरने का आयोजन किया गया। धरने की अध्यक्षता कॉमरेड सीपी सिंह शाखा मंत्री नारर्दन रेलवे मेंस यूनियन जौनपुर  तथा संचालन डॉ प्रदीप सिंह अध्यक्ष राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद जौनपुर ने किया। अध्यक्षता करते हुए सीपी सिंह ने कहा कि भारत सरकार यदि कर्मचारियों के पुरानी पेंशन बहाली पर शीघ्र कोई निर्णय नहीं लेती है तो देश के समस्त रेलवे कर्मचारी केंद्रीय नेतृत्व के आह्वान पर 1968 एवं 1974 की रेल हड़ताल की पुनरावृति करने पर मजबूर होंगे जिससे भारत की आर्थिक जीवन रेखा कही जाने वाली रेलों के चक्के पूरे देश में जाम होंगे जिसकी पूर्ण जिम्मेदारी केंद्र सरकार की होगी। धरने का संचालन कर रहे राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद जौनपुर के अध्यक्ष डॉ प्रदीप सिंह ने कहा कि पुरानी पेंशन बहाली हेतु उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश के कर्मचारी एवं शिक्षक एकबद्ध होकर दृढ़ निश्चय के साथ संकल्पित हैं। पेंशन कल्याणकारी राज्य की अवधारणा मे हमारा मूल संवैधानिक अधिकार है, जिसके लिए संघर्ष करना कहीं से भी असंवैधानिक नहीं है। छः राज्यों में पुरानी पेंशन बहाल हो चुकी है ऐसे में भारत सरकार को पीएफआरडीए का काला कानून रद्द करते हुए तत्काल कर्मचारी शिक्षक हित में पुरानी पेंशन बहाल करनी चाहिए। श्री सिंह ने पुरानी पेंशन की मांग कर रहे कर्मचारी शिक्षकों पर हरियाणा में हुए बर्बर लाठीचार्ज एवं हिंसा की घोर निंदा एवं भर्त्सना करते हुए कहा कि शांतिपूर्ण सत्याग्रही प्रदर्शनों में सरकार की दमनकारी नीतियों से कोई हल नहीं निकलता। वर्ष 2023 संघर्ष वर्ष घोषित है केंद्र राज्य के कर्मचारी एक साथ मिलकर पुरानी पेंशन बहाली की आवाज सड़क से लेकर सदन के बाहर तक लगातार उठाते रहेंगे। इसके पूर्व जिला चिकित्सालय से जौनपुर जंक्शन तक हजारों की संख्या में कर्मचारी, शिक्षक एवं पेंशनर्स- पेंशन कोई भीख नहीं यह अधिकार हमारा है, वन नेशन वन पेंशन, हमारी मांग पुरानी पेंशन, पुरानी पेंशन बहाल करो, पीएफआरडीए काला कानून रद्द करो आदि नारे लगाते हुए निर्धारित धरना स्थल पर पहुंचे। धरना सभा में नारर्दन रेलवे मेंस यूनियन से आर के श्रीवास्तव, अरविंद कुमार सिंह, शैलेंद्र कुमार, विद्या देवी,अनिल कुमार मिश्रा, अनुज कुमार सिंह, राम सिंह, संजय, पवन त्रिवेदी, राणा प्रताप यादव तथा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद जौनपुर से देवेश कुमार यादव, राकेश कुमार श्रीवास्तव, सीबी सिंह, इं राजकुमार गुप्ता, डॉ फूलचंद कनौजिया, संजय पाठक, धर्मेंद्र सिंह, जयप्रकाश गुप्ता, राम कृष्ण पाल, सुजीत विश्वकर्मा,अमर बहादुर यादव, विजयभान यादव,संजय श्रीवास्तव,इं शशीकांत यादव, इं सुनील गुप्ता, इं विवेकानंद, सरताज सिंह, अजय सिंह, तेज बहादुर,बबलू श्रीवास्तव, रीना सिंह, सीपी सिंह, प्रमोद शर्मा, लालमणि पाल, केसरी प्रसाद, दिनेश यादव,कुलदीप यादव, अरुण यादव, संतोष कुमार गौड़,शोभनाथ मौर्य, अजय मौर्य, अजय राजभर, शिव हरि सिंह, रामलाल पाल,मनीष यादव, कुलभास्कर, सरोज कुमार, राजबली पाल आदि विभिन्न विभागों के पदाधिकारी एवं कर्मचारी सैकड़ों की संख्या में उपस्थित रहे।

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?