शहर को अतिक्रमण मुक्त करने के लिए नगर मजिस्ट्रेट का अभियान शुरू



जौनपुर। जनपद मुख्यालय पर नगर क्षेत्र की सड़को पर व्याप्त अतिक्रमण और कब्जे के चलते यातायात समस्या जन मानस को निजात दिलाने के लिए एक बार फिर जिला प्रशासन के शीर्ष अधिकारी के निर्देश पर नगर मजिस्ट्रेट देवेन्द्र सिंह ने अभियान शुरू किया है। इस अभियान के तहत बुधवार को शाही पुल से ओलन्दगंज, फल वाली गली, ओलन्दगंज से टीडी कालेज रोड तक दोनों तरफ की सड़कें तथा किनारे किये गये अतिक्रमण को हटवाया गया। सड़कों के किनारे खड़ी दो एवं चार पहिया वाहनों का भी चालान किया गया जिससे जाम की स्थिति उत्पन्न न हो सके। इस संबंध में पूछे जाने पर सिटी मजिस्ट्रेट ने बताया कि शहर को जल्द ही अतिक्रमणकारियों से मुक्त कराने का प्रयास किया जायेगा। 
अतिक्रमण हटाओ अभियान के समय व्यापारियों और वाहन चालकों में हड़कंप की स्थिति रही। यातायात निरीक्षक जीडी शुक्ला के मुताबिक शहर में लग रहे जाम को देखते हुए अतिक्रमण हटवाओ अभियान चलाया गया जिससे आम लोगों को राहत मिल सके। जिनके भी वाहन सड़कों पर अनाधिकृत तौर पर खड़े पाये जायेंगे, उनका चालान किया जायेगा। हलांकि नगर मजिस्ट्रेट कहते है कि आगे भी समय-समय पर इस तरह का अभियान चलाकर अतिक्रमण को हटवाया जायेगा और नोटिस भी जारी की जायेगी। वहीं चर्चा है कि कई रसूखदार लोग भी अतिक्रमण किये हुये हैं लेकिन प्रशासन की निगाह उस पर नहीं जा रही है।
यहां यह भी बता दें कि अक्सर देखा गया है कि अतिक्रमण हटाओ अभियान के खिलाफ व्यापारी संगठन सामने आते है और फिर प्रशासन का अभियान ठन्डे बस्ते में चला जाता है और फिर सड़के अतिक्रमण की शिकार हो कर सकरी हो जाती है।

यहां सवाल यह है कि प्रशासन व्यापार मंडल के दबाव में आयेगा अथवा सड़को को अतिक्रमण मुक्त करेगा ? एक बात और है कि प्रशासन के इस अभियान के शिकार छोटे व्यापारी ही होगे अथवा रसूखदार और असर दार व्यापारी एवं अन्य सफेद पोज लोग भी हो सकेगा ? यहां यह भी बता दे कि कुछ प्राइवेट अस्पताल के लोग सड़क पर वाहनो को खड़ा कराके जाम की स्थिति शहर में बनाये हुए है क्या ऐसे लोगो के खिलाफ कार्रवाई होगी ?

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर और मछलीशहर (सु) लोकसभा में जानें विधान सभा वारा मतदान का क्या रहा आंकड़ा,देखे चार्ट

मतगणना स्थल पर ईवीएम मशीन को लेकर हंगामा करने वाले दो सपाई सहित 50 के खिलाफ एफआईआर

आयोग और जिला प्रशासन के मत प्रतिशत आंकड़े में फिर मिला अन्तर