भाजपा में टिकटार्थियों की बड़ी लाइन, जानें कौन दे सकता है निवर्तमान अध्यक्ष को टक्कर



जौनपुर। निकाय चुनाव को लेकर सत्ताधारी दल भाजपा के एलान के पश्चात भाजपा के बैनर तला नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष पद पर चुनाव लड़ने का दावा करने वालों की लम्बी कतार लग गयी है लेकिन कोई अभी तक अपने टिकट के प्रति अस्वस्त नहीं। जनपद जौनपुर मुख्यालय स्थित नगर पालिका परिषद के अध्यक्ष पद पर चुनावी जंग की बात करें तो यहां भाजपा से टिकट चाहने वालों में पार्टी के पुराने कार्यकर्ताओ के साथ कुछ नये लोग भी पार्टी से जुड़ गये है और टिकट की मांग कर दिये है। हलांकि पार्टी नेतृत्व जिताऊ प्रत्याशी की तलाश में है जो निवर्तमान परिषद अध्यक्ष का मुकाबला सामाजिक और आर्थिक रूप से कर सके।
भाजपा से टिकट की मांग करने वालों में इस समय पार्टी के पुराने कार्यकर्ताओ में आशीष गुप्ता आशू, डा राम सूरत मौर्य, राजेश मौर्य, विमल सेठ, विवेक सेठ मोनू गहना कोठी, जन्हवी चौहान, सीमा सिंह चौहान का नाम उभर कर सामने आया है। इसमे यदि सभी की स्थित का आकलन किया जाये तो गहना कोठी परिवार के विवेक सेठ मोनू सामाजिक और आर्थिक रूप से पूरी ताकत के साथ चुनावी जंग में पार्टी के मजबूत प्रत्याशी साबित हो सकेंगे।
आशीष गुप्ता आशू की बात करे तो वह पुराने पार्टी के पदाधिकारी जरूर है लेकिन आम जनमानस के बीच उनका सोहरते आम कोई खास नहीं है। बल्कि यह कहे कि न के बराबर है तो अतिशयोक्ति नहीं होगा और नगर पालिका परिषद के निवर्तमान अध्यक्ष के मुकाबले आर्थिक रूप से मजबूत नहीं हो सकेंगे। यही स्थित कमोबेश दोंनो मौर्य दावेदारो की होगी। एक विमल सेठ का नाम भी चर्चा में ये कल तक कांग्रेसी रहे चुनाव नजदीक आया तो भाजपा का चोला पहन लिया है। इनका भी सामाजिक स्तर केवल एक स्वर्ण व्यवसायी से उपर नहीं उठ सका है।


गहना कोठी परिवार के विवेक सेठ मोनू की बात की जाये तो गहना कोठी इस समय अपने सामाजिक सरोकारो की वजह से आम जनमानस की जुबान पर है ऐसे में विवेक सेठ मोनू की एक पहचान जन मानस के बीच है।स्वर्ण के बड़े व्यवसायियों में सुमार विवेक सेठ आर्थिक रूप से भी मजबूत है और यह एक जिम्मेदार सामाजिक बनाकर उभरने की चाहत रखते है। ऐसे में पार्टी अगर इन पर भरोसा करेगी तो इनके द्वारा सपा और बसपा के उम्मीदवारो को मजबूत टक्कर देने की प्रबल संभावना होगी।
यहां एक बात और भी बता दे कि निवर्तमान अध्यक्ष नगर परिषद जौनपुर माया टंडन पत्नी दिनेश टंडन विगत 22 सालो से नगर परिषद जौनपुर पर बतौर अध्यक्ष काबिज है कभी पति तो कभी पत्नी आज तक इनको कोई हिला नहीं सका है।उसके तमाम कारण है। टंडन परिवार आम जनमानस के बीच सहजता पूर्वक उपलब्ध रहकर उनकी समस्याओ के भागीदार बनते है। भाजपा सपा कोई भी जतन कर ले सीधा मुकाबला बसपा के प्रत्याशी टंडन परिवार से होता है। टंडन परिवार पूरे पांच साल तक चुनावी मूड में नजर आते हुए शहर की आवाम के सुख दुख के साथी बनते है।ऐसे में भाजपा को ऐसे व्यक्ति को टिकट देना होगा जो समाजिक और आर्थिक रूप से इनका मुकाबला कर सके।अगर ऐसा नहीं हुआ तो पांचवी बार भी टंडन परिवार का जलवा कायम रह सकता है।

Comments

Popular posts from this blog

जिले के पांच प्राथमिक विद्यालयो के औचक निरीक्षण में तीन विद्यालय के मास्टरो को मिली कारण बताओ नोटिस, रोका गया वेतन

स्कूल के आफिस में प्रिसिंपल और टीचर की अश्लील हरकते हुई वायरल,पुलिस क्यों है बेखबर?

परिषदीय विद्यालयो में डिजिटल उपस्थित का शिक्षको के विरोध के बीच अब सीएम योगी का दखल,जानिए जिम्मेदारो को क्या मिला आदेश