हिट एंड रन केस:आरोपियों ने किया खुलासा, तय था जो रास्ते में जो आएगा उसे उड़ा देंगे, पर ब्रेक नहीं लगाएंगे


एएसपी के बेटे को रौंदने वाले रईसजादों ने बुधवार को पूछताछ में बड़ा खुलासा किया। दावा किया कि जब उन्होंने होड़ लगाई तभी तय कर लिया था कि कोई रास्ते में आ गया तो उसे उड़ा देंगे पर ब्रेक नहीं लगाएंगे। ये बात सार्थक ने देवश्री से बोली थी और उसने वही किया। सड़क किनारे स्केटिंग कर रहे मासूम नामिश को रौंदते हुए दोनों निकल गए। एसयूवी रोकने तक का प्रयास नहीं किया।
एडीसीपी पूर्वी सैयद अली अब्बास ने बताया कि गिरफ्तार किए गए आरोपियों से पूछताछ में बताया कि वे सोच रहे थे कि रात में सीसीटीवी फुटेज में गाड़ी नंबर नहीं ट्रेस हुआ होगा। इसलिए पुलिस उन तक नही पहुंच पाएगी। यदि पहुंचेगी भी तो सार्थक के पिता सपा नेता रविंद्र सिंह दोनों को बचा लेंगे। इसलिए दोनों ने सबसे पहले घर जाकर हादसे की जानकारी दी थी। दूसरी तरफ रविंद्र ने भी उनको बचाने का खेल शुरू कर दिया था। जिस तरह से आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि कुछ भी होता वह ब्रेक नहीं मारते, इससे साफ है कि एक तरह से जानबूझकर हादसे को अंजाम दे डाला। इसलिए पुलिस बेहद सख्त कार्रवाई साक्ष्यों के आधार पर कर रही है।
जब हादसा हुआ था तब एसयूवी सार्थक चला रहा था। उसने पुलिस को बताया कि उसको उम्मीद नहीं थी कि भोर में उस सड़क पर कोई इस तरह से दौड़ लगा रहा होगा या स्केटिंग कर रहा होगा। इसलिए वह बस एक्सीलेटर दबाए रहा। उसका कहना था कि रफ्तार इतनी ज्यादा थी कि कोई दिखा ही नहीं। जब टक्कर लगी तब पता चला कि किनारे कोई चल रहा था, जो हादसे का शिकार हो गया है।
जनेश्वर मिश्र पार्क के गेट नंबर 6 पर कई लोग स्केटिंग सिखाते हैं। जिस तरह से नामिश की प्रैक्टिस सड़क पर करवा रहे थे, ऐसे में कोच की लापरवाही उजागर हुई। मुख्य कोच ने अपने एक साथी को प्रशिक्षण के लिए लगा रहा था, जो नामिश को प्रैक्टिस करवा रहा था। दावा किया जा रहा है कि वह खुद नाबालिग है। पुलिस उसके खिलाफ भी तैयारी करने की तैयारी में है। इसलिए उसकी जन्मतिथि संबंधी दस्तावेज उसके परिवार वालों से मांगे हैं। वहीं वहां सिखाने वाले सभी कोच को पुलिस नोटिस जारी करेगी। एडीसीपी पूर्वी ने बताया कि जो कोई भी मुख्य सड़क या सर्विस लेन पर स्केटिंग करवाते पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

एंटी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा चपरासी ढाई लाख रुपए घूस ले रहा था चपरासी सहित एसीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद