बसपा से श्रीकला का टिकट कटने के बाद बाहुबली नेता की पहली प्रतिक्रिया आई, बसपा धोखेबाज पार्टी है और झूठ बोलती है


जौनपुर। बसपा से श्रीकला धनंजय सिंह का बसपा नेतृत्व द्वारा टिकट काटे जाने के बाद पूरे दिन चुप रहने के बाद सायंकाल श्रीकला सिंह के पति जिले के बाहुबली नेता एवं पूर्व सांसद धनंजय सिंह मीडिया के सामने आये और टिकट के मुद्दे को लेकर बसपा द्वारा अपने और पत्नी के उपर लगे आरोप को निराधार बताते हुए कहा कि हमारी तो चुनाव लड़ने की योजना थी हम किसी से डरने वाले व्यक्ति नही है। बसपा के लोग हम पर नाजायज आरोप न लगाये। हमारा टिकट बसपा ने दबाव में आकर काटा है। उन्होंने कहा जो हमारे साथ हुआ वह गलत हुआ है टिकट कटने से पत्नी आहत है। हमारे साथ बसपा ने एक बार फिर धोखा किया है।
श्री सिंह ने कहा बहन जी हमें अच्छे से जानती है हम डरने वाले व्यक्ति नही है। 2012 और 2011 की घटना का जिक्र करते हुए कहा कि यह वही बहन जी है जिन्होने 2011 में हमको गिरफ्तार कराया था। बसपा की कार्यशैली धोखेबाजी की है। कई बार धोखा मिलने के बाद अब बसपा के साथ समझौता की कोई गुंजाइश नहीं बचती है। उन्होंने कहा जब हमारे पत्नी को बसपा ने अपना प्रत्याशी घोषित किया था तब मै जेल में था बसपा के लोगो ने पत्नी से बात कर खुद टिकट दिया था हमारी तो बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष बहन जी से 2013 में अन्तिम बार बात हुई थी उसके बाद आज तक कोई वार्ता नहीं हुई है।पत्नी का टिकट काटने के पीछे कोई न कोई खेल जरूर है। हमे नीचा दिखाने के लिए भी संभव है यह खेल हुआ हो। मै चुनाव तो निर्दल लड़ सकता था, अन्तिम समय में बसपा ने हमारे साथ धोखा किया है।
पूर्व सांसद ने कहा कि हमारी वजह से जौनपुर संसदीय सीट पर बसपा चर्चा में थी उत्तर प्रदेश की 80 में 79 सीटो पर कहीं भी बसपा की चर्चा नहीं है। धनंजय सिंह की वजह से बसपा जौनपुर में चर्चा में थी बसपा की वजह से धनंजय सिंह नहीं थे चर्चा में, हमने पहले ही अपनी पत्नी से कह दिया था कि बसपा धोखेबाज पार्टी है आपका टिकट अन्तिम समय तक रह पायेगा यह सम्भाववना नहीं है।

टिकट काटने के बाद बसपा के क्वार्डिनेटर खरवार जी जिस तरह का अनर्गल आरोप लगा रहे है हम पर वह पूरी तरह से असत्य है जनता को जबाव नहीं दे पा रहे है इसीलिए झूठा आरोप लगा रहे है। मै डरने वाला इन्सान नहीं हूँ कभी डरा नहीं हूँ। बसपा का चरित्र है अमेठी आजमगढ़ वाराणसी हर जगह पर टिकट बदलने का काम किया है।उसी तरह जौनपुर में भी बदल दिया है। हमें कोई गरज बसपा की नहीं थी बुलाकर टिकट दिया था। पूरे यूपी में जौनपुर सीट चर्चा में आ गई थी। उन्होने स्पष्ट रूप से कहा कि बसपा ने किसी राजनैतिक दबाव में पत्नी का टिकट काट कर हमारे साथ एक बार फिर धोखा किया है।
धनंजय सिंह ने कहा आगे की रणनीति अब अपने सभी साथियों के साथ एकाध दिन में बैठक कर वार्ता करने के पश्चात अपने अगले कदम पर विचार करूंगा।  जिसे मै और मेरी टीम जिसका समर्थन करेगी वही अब लोकसभा की दहलीज पर पहुंच पायेगा। श्रीकला धनंजय सिंह का टिकट कटने के बाद समर्थक जहां मायूस दिखे वहीं पर धनंजय सिंह के मन में गुस्से की झलक नजर आयी। 

Comments

Popular posts from this blog

जौनपुर में चुनावी तापमान बढ़ाने आ रहे है सपा भाजपा और बसपा के ये नेतागण, जाने सभी का कार्यक्रम

अटाला मस्जिद का मुद्दा भी अब पहुंचा न्यायालय की चौखट पर,अटाला माता का मन्दिर बताते हुए परिवाद हुआ दाखिल

मछलीशहर (सु) लोकसभा में सवर्ण मतदाताओ की नाराजगी भाजपा के लिए बनी बड़ी समस्या,क्या होगा परिणाम?