सुकन्या खाता धारक सावधानः बेटी के लिए जल्द करे यह काम नहीं होगा नुकसान



अगर आपने भी अपनी बिटिया के अच्छे भविष्य के लिए सुकन्‍या समृद्धि खाता खुलवाया है तो 10 दिन यानी 31 मार्च तक  खाते में पैसा जमा कराने की आखिरी तारीख है. इसके बाद आपको उस पर पेनल्टी चुकानी होगी. एक्सपर्ट्स बताते हैं कि सुकन्या खाते में एक साल के दौरान कम से कम 500 रुपये और अधिकतम 1.5 लाख रुपये जमा किए जा सकते है. आइए जानें इससे जुड़ी जरूरी बातें…
एक्सपर्ट्स बताते हैं कि सुकन्‍या समृद्धि योजना बेटियों के लिए सरकार की बेहद लोकप्रिय स्‍कीम है. महज 250 रुपये में इसका खाता खुलवाया जा सकता है. लेकिन खाते को चालू रखने के लिए हर साल कम से कम 500 रुपये जमा करना जरूरी है.
अगर यह रकम भी जमा न की जाए तो उसे डिफॉल्‍ट अकाउंट माना जाता है. इस स्थिति में यह अकाउंट इनएक्टिव हो जाता है. इसे दोबारा एक्टिवेट कराना आसान है. इसके लिए फिर से आपको अपने बैंक, पोस्ट ऑफिस (जहां पर भी खाता खुलवाया है) जाना होगा.अब यहां पर ये सवाल उठता है कि कैसे खाते को एक्टिवर करें?
पोस्ट ऑफिस की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, अगर किसी का खाता इनएक्टिव हो जाए तो ग्राहक को पोस्ट ऑफिस की अपनी ब्रांच में जाना होगा.
इसके बाद वहां जाकर दोबारा खाता शुरू करने का एक फॉर्म भरना होगा. साथ ही, बकाया भुगतान भी करना होगा. उन सभी साल का बकाया चुकाना होगा. जिन का मिनिमम पेमेंट नहीं हो पाया है.
मान लीजिए अगर आपका खाता दो साल से नहीं चल रहा है. तो आपको दो साल के मिनिमम अमाउंट 500 रुपये और 100 रुपये पेनल्टी के तौर पर चुकाने होंगे. कुल मिलाकर 600 रुपये का भुगतान करना होगा. ऐसा करने पर आपका खाता फिर से एक्टिव हो जाएगा.
इस वित्त वर्ष की मौजूदा तिमाही यानी 31 मार्च को खत्म हो रही है. इसके बाद 1 अप्रैल से फिर नई ब्याज दरें लागू होंगी. एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगली तिमाही में ये ब्याज बरकरार रह सकती हैं.
ऐसे में कोई 14 साल तक हर महीने 3000 रुपये या 36 हजार सालाना निवेश करते हैं. 14 साल में 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से यह रकम 9,11,574 रुपये हो जाएगी.
इसके बाद 7 साल तक इस रकम पर 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से रिटर्न मिलेगा. 21 साल यानी मेच्योरिटी पर यह रकम करीब 15,22,221 रुपये होगी.
मंथली 12500 रुपये या 1.50 लाख रुपये सालाना (अधिकतम रकम) निवेश करते हैं. ऐसा आपको 14 साल तक करना होगा. 14 साल में 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से यह रकम 37,98,225 रुपये हो जाएगी.
इसके बाद 7 साल तक इस रकम पर 7.6 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से रिटर्न मिलेगा. 21 साल यानी मेच्योरिटी पर यह रकम करीब 63,42,589 रुपये होगी.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

टीईटी साल्वर गिरोह का हुआ भन्डाफोड़, दो गिरफ्तार,एक जौनपुर दूसरा सोनभद्र का निकला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम

प्रेम प्रपंच में युवकों की जमकर पिटाई, प्रेमी की इलाज के दौरान मौत तो दूसरा साथी गंभीर