रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह के उपर मुकदमा दर्ज,जाने पूरा मामला क्या है



काशी में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दौरे के दौरान रविवार को एक वीडियो ट्वीट करना रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह को महंगा पड़ गया। पुलिस ने इस वीडियो को पुराना व गलत करार देते हुए सोशल मीडिया में भ्रामक तथ्यों के साथ अफवाह फैलाने के आरोप में सूर्य प्रताप सिंह के खिलाफ लंका थाने में मुकदमा दर्ज किया गया।
इस संबंध में एडीसीपी काशी जोन विकास चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि सूर्य प्रताप सिंह द्वारा किए गए ट्वीट की एसीपी भेलूपुर से जांच कराई गई। जांच में सामने आया कि जो वीडियो ट्वीट किया गया है वह 24 सितंबर 2020 का है। उस दौरान नाले में शव मिलने के घटना की मजिस्ट्रेटियल जांच भी हुई थी। उस प्रकरण में कोई कार्रवाई अब शेष नहीं है।
सूर्य प्रताप सिंह ने पुराना वीडियो गलत तथ्यों के साथ ट्वीट कर सोशल मीडिया में अफवाह फैलाने और प्रशासन की छवि को धूमिल करने का काम किया है। इसलिए उनके खिलाफ पुलिस की ओर से लंका थाने में मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। उधर, सूर्य प्रताप सिंह ने पलटवार करते हुए ट्वीट कर लिखा कि ऑक्सीजन पर सवाल करने पर मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।
उत्तर प्रदेश के रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने एक वीडियो के साथ ट्वीट किया था कि योगी जी आपकी उछलकूद से काम नहीं चलेगा, परिणाम भी चाहिए। आप आज वाराणसी में समीक्षा कर रहे हैं, जरा गरीब के इस रुदन को भी सुन लीजिएगा। वाराणसी के एक अस्पताल में भर्ती कोरोना पॉजिटिव मरीज का शव नाले में मिला, दो दिन से मरीज लापता था और परिजन उसे खोज रहे थे। सूर्य प्रताप सिंह का ट्वीट देखते ही देखते तेजी से रीट्वीट, लाइक और शेयर होने लगा। इसके बाद हरकत में आई पुलिस ने सूर्य प्रताप सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर : सुभासपा से जफराबाद विधान सभा सीट पर चुनाव लड़ सकते है डा जेपी सिंह

सपा के घोषित 56 प्रत्याशियों की सूची में जौनपुर के इन चार सीटो के प्रत्याशी घोषित

यूपी के दस सबसे अमीर विधायक : किसी के पास 35 से ज्यादा ट्रक तो कोई चलाता है 15 लाख की बाइक,जानें माननियों की कुंडली