दहेज को लेकर मंडप से दूल्हा हुआ फरार, दूल्हन करती रही इंतजार, अब मामला पुलिस के पास


दहेज के कारण हर साल घर तक उजड़ने की घटनायें  सुनने को मिलती है। हलांकि सरकार से लेकर समाज तक दहेज प्रथा को खत्म करने के तमाम प्रयास किये लेकिन किसी भी प्रयासों का कोई असर नहीं नजर आ सका है हाल ही में प्रदेश के जनपद कन्नौज में दहेज का एक ऐसा ही मामला सामने आया है। जिसने समाज के लिए बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है। दहेज के कारण दूल्हा शादी के समय पर मंडप से फरार हो गया। इसके बाद दुल्हन मंडप में ही उसका इंतजार करती रह गई। खबर है कि शादी से पहले 50 हजार रुपये की मांग पूरी न होने के कारण दूल्हा मंडप से ही गायब हो गया। 
बता दें कि दहेज का यह मामला कन्नौज जिले के जगतपुर गांव का है जहां के निवासी गिरीश चंद्र कठेरिया ने मैनपुरी जिला के निवासी देवेंद्र के साथ अपनी पुत्री शिवानी की शादी तय की थी। शादी के तथा कथित कार्यक्रम के अनुसार 16 जून को देवेंद्र बारात लेकर जगतपुर गांव में पहुंचा। दूल्हन के पिता ने तय दहेज के हिसाब से सारी व्यवस्था ठीक कर रखा था। 
जयमाला के दौरान दूल्हे ने दहेज में तय के अलावा और 50 हजार रुपये की मांग कर दिया। दुल्हन के पिता ने पहले तो मांग पूरी करने में असमर्थता दिखाया लेकिन दूल्हे की इस जिद को नजर में रखते हुए विदाई के समय कर्ज लेकर मांग पूरी करने का आश्वासन दिया। इस आश्वासन के बाद भी दूल्हा जयमाल के समय पर ही 50 हजार रुपये की मांग पर अड़ा रहा। मांग पूरा नहीं होता देख दूल्हा स्टेज छोड़कर फरार हो गया। काफी छानबीन के बाद भी उसके बारे में कुछ पता नहीं चला। दूल्हे के भाग जाने की जानकारी मिलने से हड़कंप मच गया। इस घटना के बाद धीरे-धीरे बाराती भी वहां से गायब हो गए। 
इस घटना के दौरान दुल्हन के पिता रोते हुए लड़के वालों से शादी करने की विनती करते रहे लेकिन वहां मौजूद दूल्हे के पिता का दिल जरा भी नहीं पिघला। हजार मिन्नतों से भी बात नहीं बनते देख दुल्हन के परिजनों ने दूल्हे के नाना, शादी कराने वाले मध्यस्थ, कैमरामैन और दो गाड़ियों को बंधक बना लिया। इसके बाद दुल्हन के परिवार जनों ने पुलिस से दूल्हे और उसके पिता की शिकायत कर न्याय की गुहार लगाई।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन