पुलिस की संवेदनहीनता ने ले ली घायल युवक की जान,जानिए क्या है पूरा मामला



पुलिस की संवेदनहीनता का एक मामला प्रकाश मेः आया है गोली लगने से घायल हुए युवक से मौके पर घंटो पूछताछ करती रही पुलिस। युवक के पैर से खून निलकता रहा और पुलिस साक्ष्य जुटाने में लगी रही। करीब ढाई घंटे बाद युवक को पुलिस ने अस्पताल में भर्ती कराया। लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी और घायल की मौत हो गयी। मथुरा में जैत चौकी के जंगल में एक व्यक्ति के लगी गोली के बाद मौत की खबर है। मौके पर पहुंची पुलिस ने मौके से तमंचा, कारतूस और बीयर की केन बरामद की है। वहीं व्यक्ति के मरने से पहले की एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इसमें मृतक का ससुरालिजनों ने विवाद बताया जा रहा है। घटना से क्षेत्र में हड़कंप मच गया है।
पुलिस अभी यह तय नहीं कर पाई है कि आखिर व्यक्ति की हत्या हुई है या फिर यह एक आत्महत्या है। इसे लेकर संशय बना हुआ है। उधर परिजन युवक की मौत के लिए पुलिस को जिम्मेदार ठहरा रहे है । परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने घायल को यदि समय से अस्पताल में भर्ती कराया होता तो शायद युवक की मौत नही हुई होती । घायल से पुलिस पूछताछ हम आपको पूरा मामला बताये उससे पहले यह वायरल वीडियो देखिये जिसमे जमीन पर एक युवक घायल हालात में पड़ा हुआ है । युवक के पैर से खून निकल रहा है । युवक दर्द से कराह रहा है लेकिन पुलिस का अमानवीय चेहरा भी दिखा रही थी।


घटना से काफी देर बाद पुलिस घायल को उपचार के लिए अस्पताल लेकर पहुंची जहाँ उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। मामला बीती रात करीब आठ बजे वृंदावन कोतवाली क्षेत्र की चौकी जैंत के जंगल में झाड़ियों के बीच का है , जहां ग्राम जैत निवासी मौनू पुत्र दिगंबर घायलवस्था में खून से लथपथ पड़ा हुआ था। किसी राहगीर की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने घायल को अस्पताल भिजवाने की जगह मौके पर काफी देर तक यही करती रही । जब तक घायल अस्पताल पहुँचा जब तक उसकी हालत गंभीर होती चली गयी और बाद में उसकी मौत हो गयी ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

सीएम योगी का चुनावी वादा बिजली बिल बकाये को लेकर दिया यह आदेश

आज से लगातार 08 दिनों तक बैंक रहेंगे बन्द जानें इस माह में कितने दिवस होगे काम काज