2022 में सीएम चेहरा को लेकर भाजपा नेताओ के अलग-अलग बयान से जानें क्या सोच रही है जनता



उत्तर प्रदेश में आसन्न 2022 को लेकर भाजपा नेताओ के अलग-अलग बयान से अब आवाम भी गुमराह होने लगी है और जानने चाहती है कि आखिर पार्टी की असली नीति क्या है? कौन सही बोल रहा है किसके बयान पर जन मानस विश्वास करे?अब इन सवालों का जवाब आयेगा या नहीं यह तो नेतृत्व जाने लेकिन जनता के बीच भ्रम बढ़ता ही जा रहा है कि भाजपा सत्ता के दहलीज पर आई तो सरकार का नेतृत्व कौन करेगा?
2022 के बाद सरकार के नेतृत्व को लेकर अभी हाल ही में बीजेपी सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने बड़ा बयान दिया है. स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा है कि 2022 में बीजेपी चुनाव जीतेगी, उसके बाद केंद्रीय नेतृत्व जिसे भेजेगा, वही मुख्यमंत्री बनेगा. यूपी में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर पार्टी में लगातार मंथन चल रहा है. चुनावी रणनीति पर चर्चा के लिए बैठकों का दौर लगातार जारी है. सीएम योगी आदित्यनाथ हाल ही में दिल्ली का दौरा कर चुके हैं.
बता दें कि, उत्तर प्रदेश में 2022 विधानसभा चुनाव किसके नेतृत्व में लड़ा जाएगा इसे लेकर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी में अलग-अलग दावे किए जा रहे हैं। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने एटा में दावा किया था कि पार्टी अगला विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में लड़ेगी, वहीं,  जबकि उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बरेली में कहा था कि राज्य का आगामी विधानसभा चुनाव किसके नेतृत्व में लड़ा जाएगा, ये पार्टी संसदीय बोर्ड तय करेगा.
एटा में बीजेपी कार्यालय पर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा था कि, ''प्रदेश में भ्रष्टाचार गुंडागर्दी खत्म हो गई है, विकास हो रहा है और हम ऐसे कर्मठ, योग्य, ईमानदार मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में 2022 का चुनाव लड़ेंगे.''
इससे पहले हाल ही में बरेली में उपमुख्यमंत्री मौर्य ने पत्रकारों से कहा था कि, ''बीजेपी प्रदेश का अगला विधानसभा चुनाव किसके नेतृत्व में लड़ेगी, इसका फैसला बीजेपी का सामूहिक नेतृत्व और संसदीय बोर्ड तय करेगा.'' 2017 में भारतीय जनता पार्टी ने विधानसभा का चुनाव केशव प्रसाद मौर्य की अगुवाई में लड़ा और तब बीजेपी को 312 और सहयोगी अपना दल (एस) को 9 और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी को 4 सीटें मिली थी. सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी अब बीजेपी के साथ नहीं है.
अब स्वामी प्रसाद मौर्य का बयान आया है यह भी बगैर सीएम चेहरा के चुनावी मैदान में आने की बात कर रहे है। 
2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी ने कमर कसनी शुरू कर दी है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने रविवार को पार्टी के विभिन्न मोर्चों के प्रदेश अध्यक्षों की घोषणा की है. स्वतंत्र देव सिंह ने प्रांशुदत्त द्विवेदी (फर्रूखाबाद) को युवा मोर्चा, श्रीमती गीताशाक्य राज्यसभा सांसद (औरैया) को महिला मोर्चा, कामेश्वर सिंह (गोरखपुर) को किसान मोर्चा, नरेन्द्र कश्यप पूर्व सांसद (गाजियाबाद) को पिछड़ा वर्ग मोर्चा, कौशल किशोर सांसद को अनुसूचित जाति मोर्चा, संजय गोण्ड (गोरखपुर) को अनुसूचित जनजाति मोर्चा और कुंवर बासित अली (मेरठ) को अल्पसंख्यक मोर्चा का प्रदेश अध्यक्ष घोषित किया है.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

प्रातः काल तड़तड़ाई गोलियां, बदमाशों ने अखिलेश यादव की कर दिया हत्या,ग्रामीण जनों में घटना को लेकर गुस्सा

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक