जनक कुमारी में आयोजित चार दिवसीय कार्यशाला मैथमेटिक्स हल करने के लिए सुझाये ये सरल नियम


जौनपुर। जनक कुमारी इंटर कॉलेज में रामानुजन सोसायटी आफ मैथमेटिक्स एंड मैथमेटिकल साइंसेज के तत्वाधान में डी एस टी प्रायोजित  चार दिवसीय कार्यशाला "पापुलराइजेशन इंप्रूवमेंट एंड क्वालिटी एजुकेशन इन साइंस एंड मैथमेटिक्स एंड इट्स इंपैक्ट फॉर स्कूल स्टूडेंट एंड टीचर्स "पार्ट 3 के तीसरे दिन की प्रथम सत्र की अध्यक्षता डॉ ऐ के  सिंह सीनियर साइंटिस्ट न्यू दिल्ली ने की  इसके पश्चात डॉ मनोज कुमार सिंह डिपार्टमेंट ऑफ कंप्यूटर साइंस  बीएचयू ने बच्चों को समुच्चय सिद्धांत समुच्चय संक्रियाएं व उनके  ग्राफिकल प्रस्तुतीकरण से बच्चों में गणित  के प्रति रुचि पैदा की . कार्यक्रम के दूसरे सत्र की अध्यक्षता डॉक्टर सोभनाथ सिंह पूर्व  विभागाध्यक्ष टी डी पी जी कॉलेज जौनपुर ने  कीl डॉक्टर सुनील सिंह इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस इन मुंबई ने  वैदिक गणित एवं  उसके अनुप्रयोग पर विस्तृत प्रकाश डाला। तत्पश्चात सुशील तिवारी डिपार्टमेंट ऑफ मैथमेटिक्स टी डी पी जी पीजी कॉलेज जौनपुर ने परिमेय  संख्याओं अपरिमेय संख्याओं के बारे में बच्चों को बहुत ही विस्तृत जानकारी दी.  कार्यक्रम की अगली कड़ी में क्विज कंपटीशन रखा गया जिसमें विद्यालय के बच्चों ने बढ़ चढ़कर भाग लिया क्विज कंपटीशन डॉ आशुतोष, डॉ मनोज पाठक, डॉ विजय यादव, अजय यादव, चंदन सिंह के देखरेख में हुआ.
 कार्यक्रम के आखिरी सत्र में प्रधानाचार्य डॉ जंग बहादुर सिंह जनक कुमारी इंटर कॉलेज व एस पी सिंह  विभागाध्यक्ष गणित टीडीपीजी कॉलेज जौनपुर ने कॉलेज में आए सभी गणितज्ञों, छात्रों  एवं आगंतुकों का आभार व्यक्त करते हुए विद्यालय में इस प्रकार के कार्यक्रम में सहभागिता लेने और भविष्य में उन्हें इस प्रकार के कार्यक्रम कराने की प्रतिबद्धता जताई.
 कार्यक्रम में डॉक्टर आर पी सिंह, डॉक्टर जी सी चौबे, डॉक्टर सुनील सिंह, डॉक्टर एन पी सिंह, डॉक्टर डी एम  दुबे, डॉ आशुतोष सिंह , डॉ विजय यादव, डॉ अमित सिंह, चंदन सिंह डॉ मनोज कुमार पाठक, अजय यादव इत्यादि मौजूद रहे.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन