पंचायत चुनाव के समय सुर्खियों आई रितू सिंह बनी कांग्रेसी,जानें क्या होगा इसका राजनैतिक असर


 ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान बदसलूकी के बाद वह सुर्खियों में आईं थीं और बीजेपी सरकार की जमकर किरकिरी के बाद अब रितु सिंह ने साइकिल से उतरकर कांग्रेस का हाथ थाम लिया है। शनिवार देर शाम प्रियंका गांधी ने उन्हें कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण किया है। अपने परिवार के साथ कांग्रेस मुख्यालय पहुंचीं रितु सिंह के आने की सूचना जैसे ही प्रियंका गांधी को लगी, उन्होंने सैकड़ों कार्यकर्ताओं की भीड़ के बीच रितु और उनके पति को मिलने के लिए ऊपर बुलाया और कांग्रेस ज्वाइन कराई।
 जानिए यहां का पूरा सियासी समीकरण प्रियंका ने जाना हाल, रितु अपने बच्चे और पति के साथ प्रियंका गांधी से मिलने पहुंचीं तो प्रियंका ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया और गले भी लगाया। प्रियंका गांधी ने उनसे कुशल क्षेम पूछने के बाद उन्हें कांग्रेस की सदस्यता दिलाई। अब ये कयास लगाए जा रहे हैं कि प्रियंका गांधी उन्हें पार्टी में कोई पद या फिर विधानसभा चुनाव प्रत्याशी भी बना सकती हैं। जिस तरह प्रियंका ने पहले उनके घर जाकर जख्म पर मरहम लगाया और फिर पार्टी कार्यालय पर दो दिनों से प्रियंका से मिलने की आस में खड़े नेता उनकी राह ही देखते रह गए और रितु उनसे मिलकर कांग्रेस में भी शामिल हो गईं। इसके जरिए प्रियंका ने एक बड़ा संदेश देने की कोशिश की है कि वह जो कहती हैं, वह करती भी हैं। 
ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान चर्चा में आईं थीं रितु सिंह दरअसल, यूपी में ब्लॉक प्रमुख चुनाव के दौरान लखीमपुर खीरी की एक महिला से बीजेपी कार्यकर्ता द्वारा की गई अभद्रता के बाद उसका वीडियो सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था। जिसके बाद सबसे पहले सपा ने इस मुद्दे को उठाकर बीजेपी सरकार पर जमकर प्रहार किया। उसके बाद प्रियंका ने महिला सम्मान से इसको जोड़ते हुए सीएम योगी को घेरा था। प्रियंका यहीं नहीं रुकीं जुलाई में जब लखनऊ दौरे पर आईं थी तो वह लखीमपुर जाकर रितु से मुलाकात की थीं। यहां वह अखिलेश से आगे निकल गई थीं। अब एक बार फिर सपा देखती रह गई और प्रियंका मौके का फायदा उठा ले गईं। 
सपा प्रत्याशी थीं रितु सिंह लखीमपुर जिले के पसगवां ब्लॉक परिसर में आठ जुलाई को ब्लॉक प्रमुख नामांकन के दौरान सपा समर्थित महिला प्रत्याशी रितु सिंह और उनकी प्रस्तावक से पुलिस के सामने बदसलूकी की गई थी। रितु ने भाजपा कार्यकर्ताओं पर आरओ के कक्ष में नामांकन पत्र फाड़ने का आरोप लगाया था। उनका कहना था कि भाजपा की सांसद रेखा वर्मा और पुलिस की मौजूदगी में उन दोनों के कपड़े तक फाड़ दिए गए। पसगवां ब्लॉक में तीन प्रत्याशी नामांकन पत्र दाखिल करने पहुंचे थे, जिनमें भाजपा सांसद रेखा वर्मा की करीबी व पार्टी की प्रत्याशी कु. शिखा सिंह और सांसद रेखा वर्मा की मां व निवर्तमान प्रमुख उर्मिला ने पर्चा दाखिल किया था।
सपा समर्थित प्रत्याशी रितु सिंह नामांकन कराने पहुंचीं तो गेट के बाहर ही खड़े लोगों ने रितु सिंह की प्रस्तावक अनीता यादव का हाथ पकड़कर उनसे बदसलूकी करते हुए उन्हें रोक लिया था। इस बीच रितु सिंह के साथ में मौजूद सपा नेता क्रांति सिंह को कुछ लोग पकड़कर बाहर खींच ले गए थे, जबकि तमाम अन्य लोग ब्लॉक परिसर में मौजूद थे। सपा समर्थित प्रत्याशी रितु सिंह को नामांकन कक्ष में जाने से रोकने के लिए उनसे मारपीट और छीना झपटी की गई थी। उसी दौरान भाजपा समर्थकों ने उन्हें और उनकी प्रस्तावक अनीता यादव को रोकते हुए उन दोनों की साड़ी खींची और दुर्व्यवहार किया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। फिलहाल अखिलेश यादव जिस मौके को भुना नहीं पाए प्रियंका गांधी ने उसका पूरा फायदा उठाया है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

पूर्वांचल की राजनीति का एक किला आज और ढहा, सुखदेव राजभर का हुआ निधन