आखिर कार पुलिस की लापरवाही पूर्ण कार्यशैली से बेटी ने दे दी अपनी जान, जानें क्या है कहानी


पुलिस की लापरवाही पूर्ण कार्यशैली से आखिर कार छात्रा अपमान न सह सकी और अपनी जीवन लीला समाप्त ही कर लिया अब पुलिस गाल बजाते हुए खुद को आरोप मुक्त बताने में लगी है। घटना उत्तर प्रदेश के जनपद देवरिया ज के खुखुंदू क्षेत्र की है यहां पर एक किशोरी (छात्रा) को उसके सहपाठी द्वारा ब्लैकमेल करने के मामले में जब पिता बुलाए गए स्थान पर पहुंचे तो युवक ने दो दिन पूर्व बवाल किया था। 112 नंबर पर सूचना पर पुलिस भी पहुंची। लेकिन कोई कार्रवाई नहीं किया। 
घटना को धीरे-धीरे लोग जान गए कि अमुक युवक छात्रा को ब्लैक मेल कर रहा था। यह चर्चा आसपास होने लगी। इसे किशोरी इसे बर्दाश्त नहीं कर पाई और जान दे दी। हालांकि पुलिस इस मामले में चुप्पी साधे बैठ गई। परिवार वालों का कहना है कि काश पुलिस इस मामले को गंभीरता से लिया होता और दोषी के खिलाफ सख्त कार्रवाई की गई होती तो शायद किशोरी ऐसा कदम नहीं उठाती।
पुलिस की मामूली चूक से हंसते खेलते परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। यह हाल तब है जब किशोरियों व महिलाओं की सुरक्षा के लिए हर थाने पर महिला कांस्टेबलों की तैनाती की गई है। एंटी रोमियो दस्ता भी बना है और सरकार बेटियों के सुरक्षा का ताल ठोकती फिर रही है। यहां पर मामला जाहिर होने पर किशोरी सदमे में आ गई और उसने लोकलाज के भय से दुनियां से नाता तोड़ लिया। आरोपी युवक अभी भी पुलिस गिरफ्त से कोसों दूर है। स्थानीय पुलिस का कहना है कि घटना के दो दिन पूर्व जहां बवाल हुआ था वह दूसरे थाना क्षेत्र में पड़ता है।
सीओ कहते है कि किशोरी के आत्महत्या की सूचना मिली है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। लेकिन परिजनों ने कोई बात नहीं बताई है। अब रही बात स्थानीय पुलिस को सूचना देने के बाद भी कार्रवाई नहीं करने की तो परिजनों को उनसे मिलना चाहिए था। पुलिस का ऐसा बयान लगता है आरोपियों को बचाने का षडयंत्र है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

चाचा भतीजी में हुआ प्यार, फिर फरार, पकड़े जाने पर हुई दैहिक समीक्षा, अब शादी की तैयारी

58 हजार ग्राम प्रधानो को लेकर योगी सरकार ने लिया अब यह फैसला

जौनपुर में तैनात दुष्कर्म के आरोपी पुलिस इन्सपेक्टर की सेवा हुई समाप्त, जानें क्या है घटना क्रम