शीराज़-ए-हिन्द जौनपुर का ऐतिहासिक चेहल्लुम 16 एवं 17 सितंबर को


जौनपुर । शिराजे हिंद जौनपुर का ऐतिहासिक चेहल्लुम जो हजरत मोहम्मद साहब के नवासे हजरत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम के द्वारा अपने परिवार एवं मित्रों के साथ दी गई शहादत की याद में सैकड़ों वर्षो से अपनी सभ्य परंपराओं के अनुरूप इमामबाड़ा शेख मोहम्मद इस्लाम मरहूम बाजार हुआ पानदरीबा रोड पर मनाया जाता है । इस वर्ष के अनुसार 16 एवं 17 सितंबर को अपने पारंपरिक तरीके से मनाया जाएगा । इस ऐतिहासिक चेहल्लुम को देश के क्षितिज पर एक महत्वपूर्ण स्थान प्राप्त है । जिसके कारण इसे मनाने के लिए देश के कोने-कोने से सभी संप्रदाय के श्रद्धालु हजारों की संख्या में यहां उपस्थित होकर हजरत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम को अपना श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं । कार्यक्रम का आरंभ 16 सितंबर को रात्रि 8 बजे इमाम चौक इस्लाम मरहूम पर ताज़िया रखने से होगा तत्पश्चात शब्बेदारी के आयोजन में मजलिस होगी, मजलिस की समाप्ति पर जौनपुर नगर एवं बाहर से आई अंजुमनो का नौहा मातम अनवरत रूप से रात भर चलता रहेगा । 
प्रातः 5 बजे एक मजलिस होगी जिसके बाद आग में दहकती जंजीरों का मातम अंजुमन गुलशन इस्लाम रजिस्टर्ड करेगी , इस कार्यक्रम का संचालन सैयद अकबर हुसैन ज़ैदी एडवोकेट करेंगे । 
दूसरे दिन 17 सितंबर को कार्यक्रम का आरंभ 1 बजे दिन में मजलिस से होगा जिसको मौलाना सैयद नदीम जैदी फैजाबादी खिताब करेंगे , मजलिस की समाप्ति पर इमामबाड़े से एक ऐतिहासिक चमत्कारी तुरबत निकाली जाएगी जो ताजिए के साथ एक जुलूस के रूप में अपने निर्धारित रास्ते पानदरीबा रोड, हमाम दरवाजा, काज़ी की गली, पुरानी बाजार होता हुआ सदर इमामबाड़ा जौनपुर पर समाप्त होगा , इस कार्यक्रम का संचालन सैय्यद कबीर हसन ज़ैदी करेंगे । 
हाजी सैयद असगर हुसैन ज़ैदी मुत्व्वल्ली इमामबाड़ा इस्लाम मरहूम एवं सैयद लाडले ज़ैदी कार्यकारी मुत्व्वल्ली ने बताया कि कार्यक्रम के संबंध में शासन एवं प्रशासन के अधिकारियों से व्यक्तिगत रूप से मुलाकात कर पत्रों के माध्यम से अवगत कराया जा चुका श्री ज़ैदी ने सभी संप्रदाय के लोगों से चेहल्लुम में शिरकत की अपील किया है ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भीषण सड़क दुर्घटना में दस लोगो की मौत दो दर्जन गम्भीर रूप से घायल, उपचार जारी

यूपी में जौनपुर के माधोपट्टी के बाद संभल औरंगपुर जानें कैसे बना आइएएस आइपीएस की फैक्ट्री

जानिए इंटर के छात्र ने प्रधानाचार्य को गोली क्यों मारी, हालत नाजुक, छात्र पुलिस पकड़ से दूर