यूपी में अब लोंगो को उनके गांव के पास ही मिलेगा रोजगार, योजना बना रही है सरकार - योगी आदित्यनाथ सीएम


योगी आदित्‍यनाथ सरकार उत्‍तर प्रदेश में खादी की मांग को पूरा करने के लिए अब हर पंचायत में लोगों को खादी उत्पादन से जोड़ने की योजना तैयार कर रही है। इससे ना सिर्फ प्रदेश में खादी की मांग के मुताबिक उत्पादन शुरू हो सकेगा बल्कि करीब चार लाख लोग स्वरोजगार से जुड़ेंगे। खादी के उत्पादन से जुड़ने वाले लोगों को इसके लिए प्रशिक्षित भी किया जाएगा।
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के खादी दर्शन को केंद्र में रखकर खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड इस योजना को तैयार कर रहा है। प्रदेश के खादी एवं ग्रामोद्योग मंत्री राकेश सचान ने विभाग को हर पंचायत में खादी उत्पादन से लोग जुड़ें इसके लिए विस्तृत कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए हैं। मंत्री का मानना है कि इस योजना से हर पंचायत में महिलाएं और पुरुष खादी व सूत बनाने के काम से जुड़कर स्वरोजगार से जुड़ेंगे। खादी की जितनी मांग है, उतने खादी वस्त्र का उत्पादन राज्य में होने लगेगा।
उन्होंने बताया है कि इस योजना में लोगों को सूत उत्पादन के साथ ही खादी वस्त्र तैयार करने का प्रशिक्षण दिए जाने को प्रमुखता से शामिल किया जाएगा। लोगों को कच्चा माल मुहैया कराने और तैयार माल को बाजार देने की व्यवस्था भी की जाएगी। जहां पर जरूरत होगी सोलर चर्खे भी दिए जाएंगे।
खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड से मिली जानकारी के मुताबिक पिछले पांच साल में खादी और ग्रामोद्योग आयोग तथा बोर्ड द्वारा वित्त पोषित 536 खादी संस्थाओं के माध्यम से 2874.74 करोड़ रुपये मूल्य की खादी का उत्पादन किया गया, जबकि 5033.52 करोड़ रुपये की खादी की बिक्री की गई। इस उत्पादन और बिक्री से 6.56 लाख लोग प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार से जुड़े। वर्तमान वित्तीय वर्ष में 50 हजार मीटर खादी वस्त्र उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है।
खादी वस्त्रों की बढ़ती मांग को देखते हुए इसे फैशन से भी जोड़ा जा रहा है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फैशन टेक्नालाजी (निफ्ट) रायबरेली के माध्यम से खादी कारीगरों को कपड़ों की डिजाइनिंग, कटिंग, सिलाई, पैकेजिंग का प्रशिक्षण देने का कार्यक्रम भी चलाया जा रहा है।
536 संस्थाएं राज्य में करती हैं खादी का उत्पादन
14 खादी उत्पादन व 7 सूत उत्पादन केंद्र संचालित करता है बोर्ड
882 एनएमसी चर्खे उत्पादन केंद्रों में हैं जिनमें से 391 संचालित हैं
938 सोलर चर्खे हैं राज्य में
18 खादी के सोलर लूम भी हैं
4 वार्पिंग मशीनें हैं
36802 मीटर घन जिसकी कीमत 47.20 लाख है अप्रैल से अगस्त के बीच तैयार किया गया है

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मौसम विभाग का एलर्ट इन 23 जिलो में हवाओ के साथ होगी बरसात

दुर्गा पूजा पंडाल में लगी आग छ: की मौत 50 से अधिक झुलसे सभी बीएचयू ट्रामा सेंटर रेफर

खाकी वर्दी में घूम रहा नकली फर्जी, जालसाज इंस्पेक्टर गिरफ्तार, लड़क‍ियों की श‍िकायत