कूटरचित दस्तावेज के जरिए ठेका हथियाने के चक्कर में जिला पंचायत के ठेकेदार रत्नाकर सिंह पहुंच गए जेल,जानें खेल



जौनपुर। जिला पंचायत से ठेका लेने के लिए कूटरचित दस्तावेज का सहारा लेने के आरोप में थाना लाइन बाजार पुलिस ने अहमद खां मन्डी से अभियुक्त रत्नाकर सिंह पुत्र उमानाथ सिंह निवासी हैदरपुर थाना कक्शा को गिरफ्तार करते हुए जेल रवाना कर दिया है। खबर है कि गिरफ्तार अभियुक्त ने राज्य वित्त आयोग योजनान्तर्गत कार्यो को कराने हेतु छल- कपट व मिथ्या साक्ष्य एवं कुटरचित दास्तावेज प्रस्तुत कर फर्जी एफ0डी0आर0 से पैसे लेने का अपराध किया है।
यहां बता दे कि गिरफ्तार व्यक्ति रत्नाकर सिंह  राज्य वित्त आयोग योजना के तहत ठेका प्राप्त करने के लिए छल- कपट व मिथ्या साक्ष्य एवं कुटरचित दास्तावेज प्रस्तुत कर निविदा स्वरूप मु0-13,70,000/- रूपये की एफ0डी0आर0 लगाकर कार्य को प्राप्त कर लेने के लिए जिला पंचायत में जमा किया था जिसकी छानबीन की गई तो एफ0डी0आर0 फर्जी पाया गया। इसके बाद अपर मुख्य अधिकारी जिला पंचायत ने थाना लाइन बाजार में 19 अक्टूबर 23 को तहरीर देकर  मु0अ0सं0 554/23 से धारा 419/ 420/ 467/ 468/ 471 भादवि के तहत रत्नाकर सिंह पुत्र उमानाथ सिंह निवासी हैदरपुर सरायहरखू थाना बक्शा हाल पता अहमद खां मन्डी थाना क्षेत्र लाइन बाजार के खिलाफ दर्ज कराया गया था।

मुकदमा दर्ज करने के पश्चात पुलिस ने विवेचना के दौरान 26 नवम्बर 23 को दविश देकर रत्नाकर सिंह के आवास अहमद खां मन्डी से गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद विधिक कार्यवाई करते हुए दर्ज मुकदमें के तहत अब सलाखों के पीछे भेज दिया है। रत्नाकर सिंह के खिलाफ हुई इस पूरी कार्यवाई के पीछे कुछ लोग ठेकेदारो की आपसी रंजिश भी मान रहे है। जो भी हो रत्नाकर सिंह द्वारा ठेका लेने के लिए लगाया गया दस्तावेज फर्जी एवं कूटरचित था यह जांच से स्पष्ट हो गया है। इस घटना ने यह भी संकेत दिया है कि जिला पंचायत के और भी ठेकेदारो के गहन छानबीन की जरूरत है।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

एंटी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा चपरासी ढाई लाख रुपए घूस ले रहा था चपरासी सहित एसीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद