थाना बदलापुर के गजाधरपुर की घटना को लेकर सपा भाजपा आमने-सामने,अधिकारियों ने संभाली स्थित

 
   गजाधरपुुुर गांव में रात्रि को धरने पर बैठ सपाई

जौनपुर।  जिले के थाना क्षेत्र स्थित ग्राम गजाधर पुर में मामूली विवाद को लेकर गांव के दो पक्षों में हुईं मार पीट के मामले में एक पक्ष से राधे श्याम यादव की मौत की घटना को लेकर सपा भाजपा ने अपनी सियासी रोटी जम कर सेंकी लेकिन प्रशासनिक अधिकारी मामले में विधिक कार्यवाही को अंजाम देने के साथ ही बढते विवाद को शान्त करने का प्रयास किया है । गांव में कोई अप्रिय घटना रोकने के लिए पुलिस का पहरा लगा हुआ है।  सपा के नेता गण इस घटना के पीछे पुलिस की घोर लापरवाही मान रहे हैं। 
बतादे इस गांव में घटना की नींव  विगत  5 मई 20 को पड़ गयी थी । थाने पर दरखास्त पड़ी लेकिन पुलिस ने गम्भीरता से नहीं लिया। इसी रंजिस के कारण फिर  7 जून 20 को मार पीट हो गयी इसमें पुलिस ने भाजपा विधायक के दबाव में घायल सुरेन्द्र यादव के उपर धारा 307 का मुकदमा दर्ज कर जेल भेज दिया।  इसके बाद विधायक के संरक्षण प्राप्त लोगों ने  9 जून 20 को राधे श्याम यादव के उपर हमला कर दिया जिसमें वह गम्भीर रूप से घायल हो गया उपचार के लिए वाराणसी ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गयी। 
राधेश्याम की मौत की खबर पर सपा के लोग आग बबूला हो गये और वाराणसी से लाश गजाधर पुर  गांव आते ही जिलाध्यक्ष लालबहादुर के नेतृत्व में जिला पंचायत अध्यक्ष राजबहादुर यादव,  समर बहादुर यादव,  पूर्व विधायक ओमप्रकाश दूबे बाबा, उमाशंकर यादव  सहित बड़ी संख्या में सपा जन न्याय की मांग लेकर गजाधर पुर में धरने पर बैठ गये । इसके सूचना पर प्रशासन के हाथ पांव फूल गये आनन फानन में एसडीएम व सीओ बदलापुर एएसपी आदि मौके पर गये और सपा की मांगो को स्वीकार करते हुए पीड़ित परिवार को  5लाख रूपये की आर्थिक सहायता एवं सुरेन्द्र यादव पर लगाये गये फर्जी मुकदमा को वापस लेने तथा अभियुक्तों को जल्द गिरफ्तारी का वादा करने पर देर रात्रि को धरना खत्म हुआ। सपा अध्यक्ष का आरोप है कि कानून का राज खत्म हो गया है  प्रतिदिन छोटे मोटे मामलों को लेकर हत्यायें हो रही है ।पुलिस केवल धनोपार्जन में जुटी हुई हैं। अपराधियों को भाजपा के जन प्रतिनिधियोंका पूर्ण संरक्षण प्राप्त है। 
बताया जाता है कि क्षेत्रीय विधायक मुलजिमो की पैरवी कर रहे है जिसके कारण अभियुक्त  पुलिस पकड़ से दूर है  वहीं सपा गिरफ्तारी  का  दबाव बनाये हुए हैं।  इस तरह इस मामले में अब लड़ाई सपा बनाम भाजपा हो गयी है। 

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

एंटी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा चपरासी ढाई लाख रुपए घूस ले रहा था चपरासी सहित एसीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद