सरकार में उप मुख्यमंत्री बने आये, संगठन में उपाध्यक्ष बना दिये गये एके शर्मा जानें क्या है पूरा घटनाक्रम



भाजपा में शामिल होने के बाद पूर्व आईएएस अरविंद कुमार शर्मा को एमएलसी बनाये जाने के बाद सरकार में मची उथल पुथल को विराम लगाते हुए पार्टी ने उन्हे प्रदेश उपाध्यक्ष बना कर संगठन की जिम्मेदारी दे दिया गया है। शर्मा को एमएलसी बनाये जाने के बाद प्रदेश सरकार में उप मुख्यमंत्री बनाये जाने की जबरदस्त चर्चायें थी। क्योंकि एके शर्मा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबी माने जाते हैं। इनको लेकर दिल्ली से लखनऊ तक राजनैतिक सरगर्मी बढ़ी हुई थी। 
बीजेपी आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी हुई है। इसी के तहत पार्टी ने आज एमएलसी एके शर्मा को यूपी के उपाध्यक्ष पद पर नियुक्त किया है। उनके अलावा अर्चना मिश्रा को और अमित वाल्मिकी को प्रदेश मंत्री बनाया गया है।
गुजरात कैडर के IAS अधिकारी रहे एके शर्मा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काफी करीबी माने जाते हैं. वो पीएम मोदी के साथ 2001 में तब से हैं जब उन्होंने गुजरात के सीएम पद की शपथ ली थी. वो गुजरात में सीएम कार्यालय के सचिव के बाद सीएम के अतिरिक्त प्रमुख सचिव भी रहे हैं. शर्मा ने गुजरात में होने वाले निवेशकों के सम्मेलन वाइब्रेंट गुजरात के आयोजन का दायित्व भी संभाला था.
साल 2014 में गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी जब पीएम बन कर दिल्ली आए तो शर्मा भी पीएम कार्यालय में संयुक्त सचिव के रूप में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर दिल्ली आए. स्वैछिक सेवानिवृत्ति लेते वक्त वो MSME मंत्रालय में सचिव पद पर कार्यरत थे.
एके शर्मा मूलरूप से उत्तर प्रदेश के मऊ जनपद के काझाखुर्द गांव के रहने वाले हैं. 58 वर्षीय शर्मा की प्रारंभिक शिक्षा गांव से ही हुई उसके बाद 12वीं तक कि पढ़ाई उन्होंने डीएवी इंटर कॉलेज से की. स्नातक व राजनीति शास्त्र में परास्नातक इलाहाबाद विश्वविद्यालय से किया और उसके बाद उनका चयन 1988 में भारतीय प्रशासनिक सेवा के लिए हो गया, जहां पर उनको गुजरात कैडर दिया गया।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मुम्बई से आकर बदलापुर थाने में बैठी प्रेमिका, पुलिस को प्रेमी से मिलाने की दी तहरीर, पुलिस पर सहयोग न करने का आरोप

आइए जानते है कहां पर बारिश के दौरान आकाश से गिरी मछलियां, ग्रामीण रहे भौचक

मनीष हत्याकांड का आरोपी 01लाख रुपए का इनामी, जौनपुर निवासी दरोगा विजय यादव हुआ गिरफ्तार, एसआईटी की पूंछताछ जारी