भाजपा के शासन काल में पिछड़ो पर सबसे अधिक अत्याचार - राज पाल कश्यप




जौनपुर। समाजवादी पार्टी के पिछड़ा वर्ग के प्रदेश अध्यक्ष डॉ राजपाल कश्यप का जौनपुर आगमन पर नेताओं कार्यकर्ताओं ने बॉर्डर से ही जोरदार स्वागत किया जगह जगह स्वागत दार बनाए गए थे गर्मजोशी से उनका स्वागत हुआ जिला पार्टी कार्यालय पर  सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा भाजपा सरकार में समाज का हर वर्ग परेशान है बेरोजगारों की संख्या बढ़ी है किसान आत्महत्या कर रहा है सरकार आरक्षण को खत्म करने की साजिश रच रही है भाजपा सरकार बनाने मे पिछडा वर्ग ने सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी लेकिन भाजपा सरकार में सबसे अधिक  पिछड़ों के ऊपर अत्याचार कर रही है भाजपा सरकार में जितने भी पिछड़े नेता हैं वह सिर्फ पुतला के रूप में स्थापित कर दिए गए हैं उनकी न कोई बात सुनी जाती है ना कोई सम्मान है वह अपने समाज को बेचने का काम किये है लेकिन अब पिछड़ा समाज जागरूक हो गया है भाजपा के किसी भी नेता के बहकावे में नहीं आएगा अब 2022 में पिछड़े समाज से अपील है भाजपा जैसी निकम्मी सरकार को उखाड़ फेंकने का काम करें और समाजवादी सरकार लाने के लिए पिछड़ा वर्ग संकल्पित हो पिछड़े वर्ग का सम्मान सिर्फ समाजवादी पार्टी में ही है समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अपने सरकार में जितना काम कियें है आज भाजपा की सरकार सिर्फ उनके कामों को  फीता काटने काम कर रही है अब पिछड़े वर्ग के लोगों को जागरूक होना पडेगा नहीं तो आने वाले समय में हमारे वंशज हम लोगों को माफ नहीं करेंगे मुख्य रूप कार्यक्रम की अध्यक्षता जिलाअध्यक्ष लालबहादुर यादव किया मुख्य रूप विधायक, लकी यादव पूर्व सासंद तुफानी सरोज,पूर्व ललंन प्रसाद यादव,विधायक बाबा दूबे, राजनरायन बिन्द, गुलाब सरोज, राजबहादुर यादव, डां जितेंद्र यादव  प्रदेश उपाध्यक्ष डां अवधनाथ पाल, महासचिव हिसामुद्दीन शाह,उपाध्यक्ष,श्याम बहादुर पाल,पूनम मौर्या, प्रवक्ता राहुल त्रिपाठी, श्याम नरायण बिन्द, दीपचंद राम,संजय सरोज शकील अहमद, राकेश मौर्या, श्रवण जयसवाल, राजेश यादव शरफराज खां जमाल हासमी, गप्पू मौर्य ऋषि यादव लालचंद यादव गजराज यादव,मनोज मौर्या शिवप्रकाश गिरी आरीफ हबीब, अनवारुल हक,आदि

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

हर रात एक छात्रा को बंगले पर भेजो'SDM पर महिला हॉस्टल की अधीक्षीका ने लगाया 'गंदी डिमांड का आरोप; अधिकारी ने दी सफाई

जफराबाद विधायक का खतरे से बाहर डाॅ गणेश सेठ का सफल प्रयास, लगा पेस मेकर

महज 20 रूपये के लिए रेलवे से लड़ा 22 साल मुकदमा और जीता,जानें क्या है मामला