पीयू और गुरुनानक महाविद्यालय चेन्नई के बीच एमओयू पर हुआ हस्ताक्षर


दोनों शिक्षण संस्थान शोध, सामाजिक और सांस्कृतिक क्षेत्र में करेंगे मदद

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय और गुरुनानक महाविद्यालय स्वायत्तशासी चेन्नई के बीच सोमवार को एक समझौते पर हस्ताक्षर किया गया। यह कार्यक्रम आनलाईन हुआ।  पूर्वांचल विश्वविद्यालय  के लिए यह बहुत ही बड़ी उपलब्धि है कि दोनों शिक्षण संस्थान एक दूसरे की शोध में मदद करेंगे।
इस अवसर पर कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि इस एमओयू से हमारे छात्र और शिक्षकों को लाभ मिलेगा। हम संयुक्त प्रयास से एक दूसरे को सामाजिक सांस्कृतिक और अकादमिक विशेषताओं में सहयोग करेंगे। हम एक दूसरे के शिक्षक और छात्रों को वर्कशॉप , सेमिनार में प्रतिभाग का अवसर देंगे।
इस अवसर पर विश्वविद्यालय आइक्यूएसी सेल के समन्वयक प्रोफ़ेसर मानस पांडेय ने कहा कि यह शिक्षा के क्षेत्र में उत्तर और दक्षिण का मिलन है। उन्होंने कहा कि हम प्रत्येक सेमेस्टर में दो या तीन कार्यक्रम भी आपसी सहयोग से करेंगे ताकि शिक्षक और छात्रों को इसका लाभ मिल सके।
प्रबंध संकाय के अध्यक्ष प्रोफेसर अविनाश पाथर्डीकर ने कहा कि गुणवत्ता समसामयिक है। हमारे यहां प्रोफेशनल कोर्स चल रहा है। गुरुनानक महाविद्यालय चेन्नई शोध पर अच्छा कार्य कर रहा है हम समयबद्ध और योजनाबद्ध तरीके से मिलकर कार्य करेंगे।
विश्वविद्यालय के व्यावहारिक मनोविज्ञान विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर और इसके समन्वयक  डॉ .मनोज पांडेय  ने एमओयू की औपचारिकता पूरी कर हस्ताक्षर करवाया। इस अवसर पर गुरु नानक महाविद्यालय के प्राचार्य एमजी रघुनाथन, डॉ. डाली मौर्य, स्वातिजी इत्यादि शामिल थीं। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के उप कुलसचिव वीरेंद्र मौर्य, सहायक कुलसचिव बबीता सिंह, प्रोफेसर देवराज सिंह डॉ मनोज मिश्र, डॉ सुनील कुमार, डॉ धर्मेंद्र सिंह, कृष्ण कुमार यादव, डॉ मिथिलेश यादव आदि उपस्थित थे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी

ज्वाइंट मजिस्ट्रेट ने दबंगो के कब्जे से मुक्त करायी 30 करोड़ रुपए कीमत की सरकारी जमीन