धनंजय सिंह का क्रिकेट खेलना अब जानें कैसे बन गया सियासी मुद्दा




जौनपुर। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा जौनपुर के पूर्व सांसद एवं माफिया धनंजय सिंह को क्रिकेट खेलते ट्यूट के बाद धनंजय सिंह राजनैतिक मुद्दा बनते जा रहे है वहीं सरकार और पुलिस पर सवाल खड़े किये जाने लगे है। हलांकि इस मामले में धनंजय सिंह की पत्नी अध्यक्ष जिला पंचायत सामने आ गयी है और पूर्व सांसद के बचाव को लेकर जंग शुरू कर दी है।
यहां बता दें पुलिस के लिए ‘वांटेड होकर भी सामाजिक कार्यक्रमों में अपनी लगातार मौजूदगी दर्ज करा रहे माफिया छवि के पूर्व सांसद धनंजय सिंह आखिरकार अब सियासी मुद्दा बन ही गए। शादी समारोहों में शामिल होने की तस्वीरों के बाद खुद क्रिकेट खेलकर क्रिकेट टूर्नामेंट का उद्घाटन करने वाली उनकी वायरल वीडियो ने तो तहलका मचा दिया। इस वीडियो के बाद पुलिस की सक्रियता पर उठने वाले सवाल ज्यादा तीखे होने लगे। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तो धनंजय को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ-साथ भाजपा को भी निशाने पर ले लिया।
लखनऊ में हुए एक हत्याकांड में नाम आने के बाद धनंजय पर पुलिस ने 25 हजार रुपये का इनाम भी घोषित कर रखा है। अखिलेश ने क्रिकेट खेलते उनकी वही वायरल वीडियो ट्विटर पर इस कमेंट के साथ पोस्ट कर दी-‘भाजपा का काम-अपराधी सरेआम! वह यहीं नहीं रुके और भाजपा को आईपीएल की तर्ज पर ‘एमबीएल (माफिया भाजपा लीग) शुरू करने की सलाह तक दे डाली।


अखिलेश के इस ट्वीट के बाद सरकार पर धनंजय के प्रति नरमी बरतने के आरोप लगाए जाने लगे। इससे पहले जिला पंचायत अध्यक्ष पद के चुनाव में उनकी सक्रियता के दौरान भी सियासी पारा गरमा गया था। धनंजय पुलिस की नजरों में फरार होकर भी अपनी पत्नी को जिला पंचायत अध्यक्ष पद का चुनाव जितवाने में सफल रहे। तब भी भाजपा पर उनके प्रति ‘साफ्ट कार्नर होने का आरोप लगा था।
हलांकि पूर्व सांसद की पत्नी श्रीकला रेड्डी सांसद के बचाव में सामने आते हुए बयान जारी किया है कि विपक्ष का आरोप गलत है धनंजय सिंह सामाजिक व्यक्ति है और समाज के बीच रहते है। अगला चुनाव भी लड़ने की संभावना जता दिया है। श्री कला ने एक बयान में यहां तक बताया कि जब धनंजय सिंह कोर्ट में हाजिर हुए थे तभी घोषित ईनाम खत्म हो गया था। केवल मीडिया के लोग गलत प्रचार कर रहे है।


इसके बाबत पुलिस कहती है कि जेल से निकलने के बाद जब से फरारी पर धनंजय सिंह चल रहे है तब से ईनाम घोषित हुआ है उसके बाद अभी तक सिरेन्डर नहीं हुए है। जो भी हो अखिलेश यादव ने मामले को तूल पकड़ाते हुए भाजपा सरकार को कटघरे में खड़ा कर दिया है। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सपा ने पहले फेज के चुनाव हेतु प्रत्याशियों की जारी की सूची इन लगाया दांव

थाने में खड़ी गाड़ियां दीवान ने कबाड़ी को बेचीं, एसपी ने किया निलंबित, कबाड़ी भी गिरफ्तार

आइए जानते है मुन्ना बजरंगी के भाई को पुलिस ने क्यों किया गिरफ्तार