अधिवक्तागण बनाम सीआरओ की अनिश्चित कालीन जंग शुरू, जानें क्या है कारण


जौनपुर। जनपद में एक बार फिर अधिवक्ता संघ बनाम मुख्य राजस्व अधिकारी को जंग शुरू हो गयी है ।अधिवक्ता संघ ने सीआरओ कोर्ट के पीठासीन अधिकारी पर पक्षपात पूर्ण एवं एक पक्षीय फैसला देने का आरोप लगाते हुए मुख्य राजस्व अधिकारी के कोर्ट का बहिष्कार अनिश्चित कालीन के लिए करने का एलान कर दिया है ।
अधिवक्ता संघ का आरोप है कि मुख्य राजस्व अधिकारी रजनीश राय कोर्ट के मुकदमों एक ही पार्टी जिससे अपना इन्ट्रेस्ट रखते थे से बहस करा कर मुकदमें का फैसला कर रहे थे। दूसरे पक्ष की बहस का अवसर ही नहीं प्रदान कर रहे थे जिसके कारण न्यायिक प्रक्रिया न्यायपूर्ण नहीं हो पा रही थी। वादकारियों के हित और न्यायपूर्ण फैसले के लिए सीआरओ की कोर्ट का बहिष्कार जरूरी हो गया है। जब तक न्याय की गारंटी नहीं मिलेगी तब तक अधिवक्ता न्यायिक कार्य से विरत रहेंगे। 
अधिवक्ताओं के इस निर्णय की खबर लगने पर अपर जिलाधिकारी (भू०रा०) रजनीश राय ने भी सीआरओ के न्यायालय में चलने वाले मुकदमों से सम्बन्धित वादकारियों को संदेश जारी करते हुए कोर्ट में न आने की सलाह दे दिया है। सरकारी स्तर से जारी विज्ञप्ति में कहा गया है कि जनपद के ऐसे समस्त वादकारियों को अवगत कराया जाता है कि अपर जिलाधिकारी भू-राजस्व न्यायालय (मुख्य राजस्व अधिकारी) में अधिवक्तागण कार्य नहीं कर रहे है, जिसके कारण दूरदराज के वादकारियों से अनुरोध है कि वे अनावश्यक रूप से अपर जिलाधिकारी भू-राजस्व न्यायालय से संबंधित वाद पत्रावलियों के संबंध में पैरवी हेतु कलेक्ट्रेट जौनपुर में न आये, जिससे उनको अनावश्यक व्यय व भाग-दौड़ न करना पड़ें। वाद पत्रावलियों में उन्हें अग्रिम नियत तिथि की सूचना मोबाइल के माध्यम से दे दी जायेगी या वे अपने अधिवक्ता से सूचना प्राप्त कर सकते हैं। यह सूचना जनहित एवं वादकारियों के सुविधा एवं अनावश्यक व्यय, भाग-दौड़ और व्यर्थ समय गवाने से बचने के लिए दी जा रही है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

अब से राशन मिलना बंद, पूरे 4 महीने के लिए लगी राशन पर रोक, जानें क्या है कारण

पूर्वांचल के रास्ते यूपी में जानें कब प्रवेश कर सकता है मानसून, भीषण गर्मी से मिलेगी निजात

सीएम योगी के एक ट्वीट से लखनऊ का नाम बदलने की सुगबुगाहट, जानें क्या हो सकता है नया नाम