वोटरो की खरीद और भितरघात के साथ सम्पन्न हो सकता है एमएलसी का चुनाव,जानें किसकी स्थिति है मजबूत


जौनपुर। विधान परिषद सदस्य (एमएलसी) चुनाव के लिए मतदान के तिथि की उल्टी गिनती शुरू हो गयी है। जनपद के अन्दर इस चुनाव में मुख्य रूप से सपा और भाजपा ने अपने प्रत्याशी को मैदान में उतारा है। भाजपा ने एमएलसी बृजेश सिंह प्रिन्सू को चुनाव मैदान में उतारा है तो सपा डाॅ मनोज कुमार यादव पर दांव लगाया है। चुनाव के लिए मतदान की तिथा जैसे जैसे नजदीक आ रही वोटरो की खरीद का सिलसिला तेज होता जा रहा है।यूं कहा जाये कि मतदाता बिकने को तैयार बैठा है जो जितना खरीद लेगा वह उतना वोट पाकर जीत हार की स्क्रिप्ट तैयार कर लेगा। हलांकि सरकारी तंत्र ब्लाक से लेकर मुख्यालय तक अपनी तैयारियों को अन्तिम रूप देने में जुट गया है। 
यहां बता दें कि जनपद में एमएलसी चुनने के लिए ग्राम पंचायत से लेकर देश की पंचायत तक कुल 4030 मतदाता है इसमें चुने गए जन प्रतिनिधि गण ग्राम प्रधान से लेकर सांसद तक मतदान करेंगे। चुनाव में बृजेश सिंह प्रिन्सू के चुनाव की पूरी कमान पूर्व सांसद बाहुबली नेता धनंजय सिंह के हाथ में है इसके साथ ही सत्ता सरकार भी साथ में लगा है भाजपा के लोग अलग से जुटे हुए है। सबसे खास बात यह है कि बृजेश सिंह के चुनाव के प्रमुख संचालक बाहुबली धनंजय सिंह ऐसे चुनावो में खासे प्रभाव शाली नजर आते है वोटरो की खरीद करने में जरा भी संकोच नहीं करते है और सफल भी रहते है। खबर है इस समय धनंजय सिंह पूरे जनपद में भ्रमण करते हुए वोटरो को खरीदने में लगे हुए है जन चर्चा है कि ब्लाक और ग्राम पंचायत के वोटर अपनी कीमत 30 हजार रुपए तक पहुंचा चुके है। इस तरह प्रचार के नाम पर वोट खुले आम खरीदे जा रहे है। 
सपा प्रत्याशी डॉ मनोज कुमार यादव की बात करें तो इनके साथ कोई ऐसा चेहरा नहीं है कि कहा जाये कि मतदाताओ में अपनी पकड़ रखता हो हां सपा की जिला इकाई और एक दो विधायक इनके लिए काम कर रहे है खबर मिली है कि इनके स्तर से भी वोटरो के खरीद फरोख्त का सिलसिला अब कुछ तेज तो कर दिया गया है। लेकिन जिस तरह से डाॅ मनोज कुमार यादव चुनाव लड़ रहे है उसे देख कर ऐसा नहीं लगता कि ये चुनाव जीतने के लिए लड़ रहे है। हां जहां तक मतदाताओ का सवाल है सपा की मतदाता संख्या 2100 के आसपास है अगर मतदाता इमानदारी से पार्टी के साथ खड़े हो गये तो किस्मत डाॅ मनोज यादव का साथ दे सकती है अन्यथा की स्थिति में बृजेश सिंह का पलड़ा खासा भारी नजर आ रहा है। 
इस चुनाव में सबसे बड़ी बात भितरघात की है अगर जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव को लेकर बदले की भावना का कुछ गेम चला तो भितरघात की गम्भीर सम्भावना से इनकार नहीं किया जा सकता है इसमें सपा भाजपा दोंनो जद में है। जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव में भाजपा प्रत्याशी बृजेश सिंह धनंजय सिंह के साथ थे और शाहगंज विधायक रमेश सिंह कि पत्नी को हरवाने में बड़ी भूमिका अदा किया था अब रमेश सिंह विधायक है बदला ले सकते है। भाजपा की राज्यसभा सदस्य भी प्रत्याशी से नाराज रहती है।वहीं सपा में डाॅ मनोज यादव को मल्हनी के विधायक लकी यादव एक दम नहीं पसंद करते है तो शाहगंज के सपा नेता पूर्व मंत्री शैलेंद्र यादव ललई और धनंजय सिंह की दोस्ती किसी से छिपी नहीं है। ये सब संकेत करते है कि वोटो की खरीद फरोख्त और भितरघात के साथ एम एल सी का चुनाव होगा। 
जिला प्रशासन के अधिकारी गण मतदान कराने के लिए जनपद के 22 मतदान केन्द्रो पर अपनी पूरी तैयारियां कर लिए है। जिला निर्वाचन अधिकारी के अनुसार सुरक्षा का कड़ा पहरा रहेगा। गणना विकास भवन के सभागार में करायी जायेगी। 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन