उप मुख्यमंत्री/चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री बृजेश पाठक के इस कार्यशैली से महकमें में खलबली



उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम और चिकित्सा, स्वास्थ्य, परिवार कल्याण एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री ब्रजेश पाठक की कार्यशैली से अब स्वास्थ्य विभाग खास कर अस्पतालो में हड़कंप जैसी स्थित नजर आने लगी है। लगातार अस्पतालों का औचक निरीक्षण के क्रम में उप मुख्यमंत्री सोमवार को मरीज बनकर बाराबंकी के जिला अस्‍पताल की ओपीडी में पहुंचे और लाइन में लगकर पर्चा बनवाया। मास्क लगा होने के कारण पहले तो लोग उनको पहचान नहीं पाए, लेकिन जब पता चला तो वहां पर खलबली मच गई। करीब 40 मिनट के निरीक्षण के दौरान ब्रजेश पाठक ने वहां पर कई कमियां मिलने के बाद जिम्मेदार चिकित्सों तथा अधिकारियों को फटकार भी लगाई।
उप मुख्यमंत्री ब्रजेश पाठक सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे जिला अस्पताल में प्रशासनिक अमले को छोड़ निजी वाहन से पहुंचे। उप मुख्‍यमंत्री ने पहले अस्पताल की सेवाओं की हकीकत परखी। इसके बाद लाइन में लग कर पर्चा भी बनवाया। एक ही काउंटर पर पर्चे बनाए जा रहे थे। इस पर उन्होंने स्वास्थ्यकर्मियों को फटकार लगाई। एक चिकित्सक के कोर्ट जाने की जानकारी मिलने पर फोन पर जानकारी ली और झूठी सूचना देने पर नाराजगी जताई। उन्होंने खराब मिले वाटर कूलर को ठीक कराने और सफाई व्यवस्था को दुरुस्त कराने के लिए निर्देश दिए।


उप मुख्यमंत्री का जिला अस्पताल का ‘आपरेशन’ करीब 40 मिनट तक चला। इस दौरान उन्होंने अस्पताल के विभिन्न कक्षों में जाकर स्वास्थ्य सेवाओं की सत्यता जांची। हड्डी रोग विभाग में एक मरीज के पैर में ईंटा बंधा देखा तो उनका पारा चढ़ गया। उन्‍होंने बाेला कि यहां अब भी जुगाड़ चल रहा है। एक कक्ष में पैक रखी मशीन के संबंध में उन्‍होंने जानकारी ली। बताया गया कि चार महीने पहले यह मशीन आई थी, लेकिन इसका उपयोग न होने के कारण नहीं खोली गई। इस पर उन्‍होंने कहा कि अगर उपयोग नहीं था तो भी मशीन को चेक करना चाहिए था।

उप मुख्यमंत्री ने पर्चा बनवाने के लिए लाइन में लगे मरीजों से स्वास्थ्य सेवाओं के संबंध में जानकारी ली। इसके अलावा उन्‍होंने अधिकारियों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराने के निर्देश दिए।


स्वास्थ्य सेवाओं की हकीकत जानने के लिए उप मुख्‍यमंत्री ब्रजेश पाठक सामान्य व्यक्ति की तरह निजी वाहन से पहुंचे थे। मुंह पर मास्क लगाने के साथ ही उन्होंने शर्ट की आस्तीनें चढ़ा रखी थीं। महज तीन-चार मिनट में ओपीडी का निरीक्षण करने के बाद वह पर्चा बनवाने के लिए कतार में लग गए थे। जानकारी होने पर सीएमएस डा. बृजेश सिंह, सीएमओ राम जी वर्मा, सांसद उपेंद्र सिंह रावत व भाजपा जिलाध्यक्ष शशांक कुशमेश समेत अन्य अधिकारी भी मौके पर पहुंचे।



टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर का बेटा बना यूनिवर्सिटी आफ टोक्यो जापान में प्रोफ़ेसर, लगा बधाईयों का तांता

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

यूपी में फिर 11 आईएएस अधिकारियों का तबादला, देखे सूची