पुण्य तिथि पर याद किये गए वैज्ञानिक डॉ शमीम हैदर


जौनपुर। यंग साइंटिस्ट एवर्डेड स्वर्गीय डा.शमीम हैदर पूर्व प्रोफेसर बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी की पुण्य तिथि के मौके पर एएम सनबीम स्कूल के सभागार में मजलिस का आयोजन हुआ । मजलिस के उपरांत एएम.सनबीम स्कूल के प्रबंधक तहसीन अब्बास सोनी ने डाक्टर शमीम की जिंदगी पर प्रकाश डाला और सभी उपस्थिति लोगो से सूरे फातेहा पड़ने की गुज़ारिश की तत्तपशचात सोज़खानी डॉ एबाद साहब,हाजी समीर साहब ने की । 
मजलिस को खिताब करते हुए मौलाना फ़जले मुमताज़ साहब ने अपने मखसूस अंदाज़ मे कहा कि दुश्मन जब भी वार करता है वह हमारे लिबास मे करता है इसे पहचानना बहुत ज़रूरी है इंसान खाली अपनी भौतिक ज़रूरतो पर धयान देता है अध्यातमिक (रूहानी) ज़रूरतो पर नही । रूह को बुलन्द करने पर ज़्यादा ध्यान नही देता है रूह की बुलन्दी से अल्लाह से ही कुरबत यानी नज़दीकी हासिल हो सकती है । उन्होंने कहा अगर अपनी नफ़स रूह को पाक रखना है तो हर तरह के हराम काम से बचे ,बुगज़ हसद से बचे पाकिज़ा गेज़ा खाए । उन्होंने हज़रत अब्बास अलमदार का मसायब पढ़कर यह पैगाम दिया कि हम कर्बला वालो से यह तालीम हासिल कर सकते है की किस तरह से हम समाज मे रिश्तेदारी मे रिश्तो को निभाह सकते हैं । मजलिस मे मुख्य रूप से नजमुल हसन नजमी,शिवली आज़मगढ से आए कैसर हुसैन, एएम.डेज़ी,नसीम हसन,असलम नक़वी, मुसतफ़ा शमसी,शकील एडवोकेट, नसीम हैदर एडवोकेट,शबीह अब्बास, अरविन्द कुमार,आरिफ़ हुसैनी,बेलाल जानी,मासूम हुसैन,नाजि़म हुसैन, सोनू आदि के साथ भारी संख्या में लोग मौजूद रहे । बाद खत्म मजलिस आए हुए सभी मोमनीन का शुक्रिया शकील अहमद और तहसीन अब्बास सोनी ने अदा किया ।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भाभी को अकेला देख देवर की नियत हुई खराबा, जानें फिर क्या हुआ, पुलिस को तहरीर का इंतजार

घुस लेते लेखपाल रंगेहाथ गिरफ्तार, मुकदमा दर्ज कर एनटी करप्शन टीम ले गयी साथ

सिद्दीकपुर में चला सरकारी बुलडोजर मुक्त हुई 08 करोड़ रुपए मालियत की सरकारी जमीन