सुखी जीवन के लिए योग को जीवन का अभिन्न अंग बनाएं - कुलपति प्रो निर्मला एस मौर्य

 


विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह का हुआ आयोजन 

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के एकलव्य स्टेडियम में मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस समारोह का आयोजन हुआ। आर्ट ऑफ लिविंग बेंगलुरु के योग प्रशिक्षक ई. अंकुश जी ने आयुष मंत्रालय के प्रोटोकॉल के तहत योग कराया। इसके साथ ही विश्वविद्यालय परिसर में खेलकूद परिषद, राष्ट्रीय सेवा योजना, रोवर्स रेंजर एवं मिशन शक्ति के संयुक्त तत्वावधान में चल रहे अमृत योग सप्ताह का समापन हुआ। मैसूर के पैलेस मैदान में आयोजित योग दिवस के कार्यक्रम में  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उद्बोधन सीधे  प्रसारण  के माध्यम से स्टेडियम में सुना गया। योग दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि योग में श्वास की महत्वपूर्ण भूमिका है। श्वास लेने और छोड़ने के सौंदर्य को जो जान लेते है वही योग के महत्व को समझते है। उन्होंने कहा कि योग के लिए खाली पेट होना चाहिए, जो लोग सुबह योग नहीं कर सकते है वह सायंकाल भोजन के पूर्व योग कर कर सकते है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के शिक्षक, कर्मचारी, विद्यार्थी योग को अपने जीवन का अभिन्न अंग बना ले। कुलपति प्रो. निर्मला एस. मौर्य ने  योग प्रशिक्षक ई. अंकुश, जय एवं विकास, अनिल कुमार को अंगवस्त्रम एवं स्मृति चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया। विश्वविद्यालय की योग टीम द्वारा आठ दिनों तक योगाभ्यास कराया गया। कार्यक्रम के संयोजक प्रो. अजय प्रताप सिंह ने धन्यवाद ज्ञापन किया। संचालन अशोक सिंह ने किया. इस अवसर पर वित्त अधिकारी संजय राय, कुलसचिव महेंद्र कुमार, सहायक कुलसचिव बबिता, अमृत लाल, विजय तिवारी, प्रो. देवराज, दिग्विजय सिंह राठौर, डॉ मनोज पाण्डेय, डॉ जान्हवी श्रीवास्तव,डा. राकेश यादव, डॉ. जगदेव, डॉ. सुनील कुमार, डॉ अवध बिहारी सिंह, डॉ पुनीत सिंह,  दिव्येंदु मिश्र, पंकज सिंह, रमेश पाल, मदन मोहन भट्ट, प्रमोद कुमार सिंह, रजनीश सिंह, डॉ राजेश सिंह,  इन्द्रेश कुमार, विद्युत मल्ल, सुशील प्रजापति, राजनारायन सिंह, राजेंद्र प्रताप सिंह समेत तमाम लोग उपस्थित रहे।


टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जौनपुर का बेटा बना यूनिवर्सिटी आफ टोक्यो जापान में प्रोफ़ेसर, लगा बधाईयों का तांता

इलाहाबाद हाईकोर्ट का ग्रामसभा की जमीन को लेकर डीएम जौनपुर को जानें क्या दिया आदेश

सिकरारा क्षेत्र से गायब हुई दो सगी बहने लखनऊ से हुई बरामद, जानें क्या है कहांनी