स्व.उमानाथ मिश्रा का जीवन गरीब पीड़ित के लिए जीवन पर्यन्त रहा समर्पित, मनाई गई प्रथम पूण्यतिथि


जौनपुर। जनपद मुख्यालय से लगभग 40 किमी दूर विकास खंड महराजगंज के ग्रामीण क्षेत्र में लमहन गांव निवासी जनसहयोगी व समाजसेवी  रहे पं. उमानाथ मिश्रा की आज प्रथम पुण्यतिथि उनके परिजनो सहित बड़े पुत्र चन्द्रकान्त मिश्रा (प्रवक्ता इण्टर कालेज मीठेपार) ने पिण्डदान आदि कर्मकांड के जरिए पूरे विधिविधान से  श्रद्धांजलि अर्पित किये। स्व.मिश्रा के बिषय में जन चर्चाएं है कि वह एक जन सेवी व्यक्तित्व के व्यक्ति रहे है। आम जन गरीब शोषित वर्ग के लोंगो की मदत करना उनके जीवन में शुमार था। 
जन सेवा के लिए उनके हौसले इतने बुलंद रहे कि सन् 1948 ई.के दौर में आपने गांव लमहन से प्रतापगढ़ के उड़ैयाडीह तक बदमाशों को दौड़ाकर पकड़ा और थाने ले जा कर बदमाशो को पुलिस के हवाले सुपुर्द किया था। उनकी उस समय जिला जज ने ₹5 हजार रूपये व एक राईफल का इनाम दिया था। उनके जीवन से जुड़े अन्य एसे ही साहसिक कारनामे उनके साथ जूड़े थे लोगों ने चर्चा की। जीवन के अंतिम पड़ाव पर  भी गरीब कमजोर वर्गों को आर्थिक व पशु पक्षियों में प्रेम तथा अन्य सहयोग हमेशा से रहाता रहा। 
इस दौरान, जगन्नाथ मिश्रा बड़ेलाल (पूर्व प्रधान) हरिवंश मिश्रा, हरिगोविंद मिश्रा(नोटरी वकील) जयप्रकाश मिश्रा LIC,नीरज मिश्रा शिक्षक, शुशील मिश्रा शिक्षक, पंकज मिश्रा, सुनील मिश्रा पत्रकार,मुकुंद मिश्रा, अभिषेक मिश्रा, अंकित मिश्रा, संदीप तिवारी पहलवान, सर्वेश द्विवेदी, नीलेश सिंह, दीपक गुप्ता गोल्डी, रविंद्र यादव शिक्षक, अंकित दूबे CA, इस्तियाक, आदि बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

मौसम विभाग का एलर्ट इन 23 जिलो में हवाओ के साथ होगी बरसात

दुर्गा पूजा पंडाल में लगी आग छ: की मौत 50 से अधिक झुलसे सभी बीएचयू ट्रामा सेंटर रेफर

खाकी वर्दी में घूम रहा नकली फर्जी, जालसाज इंस्पेक्टर गिरफ्तार, लड़क‍ियों की श‍िकायत