नाबालिग देवर के प्यार में पागल महिला ने पति को कहा उसके लायक नहीं, देवर के साथ रहने को अंड़ी, समझौता नहीं करा सकी पुलिस


प्यार इतना अंधा होता है कि वह अच्छा बुरा का फैसला नहीं कर पाता है। जी हाँ पांच महीने के बच्चे की मां अपने पति को छोड़ नाबालिग देवर के साथ रहने की जिद पर अड़ गई। थाने पहुंची महिला ने पति को अपने लायक नहीं बताते हुए देवर के साथ रहने की बात कही। उसने महिला थाना पुलिस परामर्श केंद्र से देवर के साथ भिजवाने की मांग की। पुलिस ने उसके देवर को नाबालिग बताते हुए उसके साथ भेजने से असमर्थता जताई।
मामला थाना क्षेत्र के एक गांव का है। गंगा तट बांध किनारे गांव निवासी युवक मजदूरी करता है। उसकी शादी तीन साल पूर्व पड़ोस के गांव की युवती के साथ हुई। पांच महीने पूर्व उसकी पत्नी ने बेटी को जन्म दिया। बीते कुछ समय से युवक और उसकी पत्नी के बीच संबंध अच्छे नहीं हैं। युवक को शक है कि उसकी पत्नी अपने देवर के संपर्क में रहती है।
उसी से बात करती है। उसे यह भी संदेह है कि पत्नी के देवर से अवैध संबंध हैं। उसका संदेह पक्के यकीन में उस वक्त बदल गया, जब पत्नी ने उसके साथ ही रहने से इनकार कर दिया। कह दिया कि वह देवर के घर में ही रहेगी और किसी भी कीमत पर पति के साथ नहीं रहेगी। पति उसके लायक नहीं है।
मामला कई दिन तक गांव में चलता रहा। रिश्तेदार और परिचितों ने पंचायत के जरिए मामला निपटाने का प्रयास किया, लेकिन बात नहीं बनी। शनिवार को वह पांच महीने के बच्चे को गोदी में लेकर महिला थाना परिवार परामर्श केंद्र पहुंची। उसने पुलिस से देवर के साथ भिजवाने की गुहार लगाई।
पुलिस ने उसके पति और ससुराल वालों को भी बुला लिया। उसके मायके वाले भी बुला लिए। सबके सामने उसने कह दिया कि वह देवर के साथ ही रहेगी। उसके साथ रहने से साफ इंकार कर दिया। उधर पति ने कहा कि वह अपनी पत्नी को नहीं छोड़ेगा।
सीओ श्वेताभ भास्कर का कहना है कि दोनों पक्षों उनके घर भेज दिया गया है। दोनों पक्षों से आपस में सहमति कर मामले को निपटाने की बात कही गई है।

Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद