डीएम जौनपुर के आदेश पर नमामि गंगे योजना के जेई और एक्सईएन तीन घन्टे बैठाए गये थाने पर, जानें कारण क्या था


जौनपुर।सीएम डैशबोर्ड की बैठक के दौरान जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने कार्यो के प्रति लापरवाही बरतने पर नामामि गंगे योजना के तहत जल जीवन मिशन की सीवर लाइन को ठीक करने के मुद्दे को लेकर सम्बन्धित कार्यदायी संस्था के एक्सईएन और जेई को लगभग तीन घन्टे तक थाना लाइन बाजार के लाकप में बैठा दिया था। जिलाधिकारी के इस आदेश से सभी महकमें हड़कंप मच गया था। हलांकि उक्त जेई और एक्सईएन को मांफी मांगने पर फिर हवालात से बाहर करते हुए सम्बन्धित कार्य को दो दिन के अन्दर पूरा करने का निर्देश दिया है।


यहां बता दे कि 20 जनवरी 24 को सायंकाल डीएम डैशबोर्ड सम्बन्धित बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में आहुत किया था बैठक में एसटीपी योजना के तहत चल रहे सीवर लाइन और पम्प से लगातार नदी में जा रही गन्दगी को साफ करने के लिए जल जीवन मिशन सीवर के प्रोजेक्ट मैनेजर, जेई, परियोजना अभियंता को कई बार ठीक करने के लिए निर्देशित किया था लेकिन जल जीवन मिशन के जेई और एक्सईएन ने आदेश का पालन नहीं किया था और बैठक में डीएम से झूठ बोल रहे थे कि काम हो गया है इस पर डीएम ने सच जानने के बाद नाराज हुए तो जेई और एक्सईएन को थाना लाइन बाजार की पुलिस को देते हुए हवालात में बैठा दिया था। इतना ही नहीं गलत जानकारी देने तथा सीवर फ्लो के प्रकरण को गंभीरता से न लेने पर मुकदमा दर्ज कराने के निर्देश दिया है।
डैशबोर्ड की बैठक में डीएम ने कार्य की प्रगति को पोर्टल पर नियमित रूप से फीड करने के भी निर्देश दिए। इसके अलांवा परियोजना निदेशक से प्रधानमंत्री आवास योजना तथा मुख्यमंत्री आवास योजना के संदर्भ में आवास निर्माण, किस्त वितरण की जानकारी ली।डीपीआरओ से 15वे वित्त आयोग के तहत निर्माण कार्य, व्यक्तिगत शौचालयों की जियो टैगिंग, मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी से गोशालाओं, कृत्रिम गर्भाधान, समाज कल्याण अधिकारी से शादी अनुदान,  छात्रवृत्ति आदि, एक्सईएन पीडब्ल्यूडी से एप्रोच मार्ग, नई सड़को के निर्माण आदि से संबंधित निर्माण कार्य, कौशल विकास, कन्या सुमंगला योजना सहित सेतु निगम के तहत हो रहे ब्रिज निर्माण के संदर्भ में जानकारी ली।
इसके पश्चात उन्होंने कार्यदायी संस्थाओं यूपीपीसीएल, आवास विकास आदि से जनपद में चल रहे प्रोजेक्ट्स के संदर्भ में जानकारी ली।अग्निशमन केंद्र निर्माण, सिकरारा में चल रहे 100 बेड के अस्पताल निर्माण आदि की प्रगति के संदर्भ में जानकारी ली। राजकीय निर्माण निगम की ओर से किसी भी प्रतिनिधि के उपस्थित न होने पर स्पष्टीकरण जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने समस्त बीडीओ को रियल टाइम खतौनी के डाटा नियमित तौर पर फीड  करने के निर्देश दिए तथा बीडीओ सिकरारा, खुटहन, करंजाकला के अनुपस्थित रहने पर वेतन रोकने के निर्देश दिए।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी साई तेजा सीलम, अपर जिलाधिकारी वि.एवं रा. राम अक्षयबर चौहान, उपजिलाधिकारी सदर ऋषभ पुंडरीक,  मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ० लक्ष्मी सिंह, परियोजना निदेशक जयकेश त्रिपाठी, जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी डॉ० अरुण कुमार यादव सहित अन्य अधिकारीगण उपस्थित रहे।


Comments

Popular posts from this blog

पुलिस प्रशासन और दीवानी न्यायालय के न्यायिक अधिकारियों के बीच छिड़ी जंग, न्यायाधीश हुए सुरक्षा विहीन

एंटी करप्शन टीम के हत्थे चढ़ा चपरासी ढाई लाख रुपए घूस ले रहा था चपरासी सहित एसीओ के खिलाफ मुकदमा दर्ज

मछलीशहर (सु) संसदीय क्षेत्र से सांसद बनने के लिए दावेदारो की जाने क्या है स्थित, कौन होगा पार्टी के लिए फायदेमंद